Skip to content

यह मूवी आपको बिज़नस करना सिखा देंगे (Business Related Movies in Hindi)

बेस्ट मूवी जो आपको बिज़नस करना सिखा सकते है (Business related Movies in Hindi)

वैसे तो दोस्तों फिल्में एंटरटेनमेंट और टाइम पास करने का एक अच्छा जरिया होता है पर बहुत सी फ़िल्मों से हमें बहुत कुछ  सीखने को भी मिलता है। 

कुछ फिल्‍में ऐसी होती हैं जो कि हमें कुछ न कुछ सिखाने का प्रयास करती हैं ।

बॉलीवुड में कुछ ऐसी हिंदी फिल्‍में भी बन चुकी हैं जो कि नवयुवकों को बिजनेस करने के लिए प्रेरित करती हैं। ये बॉलिवुड फिल्‍में बताती हैं कि कैसे बिजनस करना है। ये फिल्‍में बिजनेस को बढ़ावा देती हैं साथ ही नए बिजनेस आइडिया को लोगों तक पहुंचाने का काम भी करतीं हैं। 

आज के इस आर्टिकल में हम आपको बिज़नस से जुड़ी फिल्म के बारे में बताएंगे।

अगर किसी के अंदर इसका पैशन है तो वो भी एक सफल उद्यमी बन सकते हैं।

तो चलिए जानते हैं ऐसी ही कुछ business related Hindi movies के नाम, जिन्हें आपको एक बार ज़रूर से देखना चाहिए।  इन Business Movies में आपको मनोरंजन के साथ ही business के बारे में सीखने को भी काफ़ी चीजें मिलेंगी।

अन्य पढ़े:

Business Related Movies in Hindi

business related movies in hindi

1.सत्यकाम (ऋषिकेश मुखर्जी, 1969) :

यह फिल्म भारत में ब्रिटिश राज के अंतिम दिनों में बनी है, जो स्वतंत्रता से कुछ महीने पहले इंजीनियरिंग छात्रों के एक समूह के रूप में स्नातकों के बारे में है।  फिल्म का नायक जिद्दी और राजसी है।  जब सही काम करने की बात आती है तो वह समझौता करने से इंकार कर देता है और बदलते समय का सामना करने के लिए संघर्ष करता रहता है।  जैसे ही फिल्म का नायक एक नौकरी से दूसरी नौकरी में जाता है, वह सभी बेईमान समझौतों को खारिज कर देता है।  उसे लगातार अपनी विफलता की याद दिलाई जाती है, और वास्तविक जीवन में अपने सिद्धांतों को लागू करने में कठोरता बढ़ाकर इसकी भरपाई की जाती है। इसकी वजह से उन्हें बड़ी संख्या में संघर्षों का सामना करना पड़ता है। 

जो अक्सर कम यात्रा वाली सड़क पर चलने की समान चुनौतियों का सामना करता है, ऐसे व्यक्ति को सत्यकाम अवश्य देखना चाहिए।

2.मंथन (श्याम बेनेगल, 1976)

यह फिल्म एक पशु चिकित्सक के इर्द-गिर्द घूमती है, जो ग्रामीणों के कल्याण के लिए एक दुग्ध सहकारी समिति शुरू करने के उद्देश्य से एक गाँव में आता है।  गाँव में उसे एक धनी व्यापारी और गाँव के सरपंच से प्रतिरोध मिलता है। इस मूवी में गांव की जाति और सांप्रदायिक गतिशीलता को भी दिखाया गया है। भारत में श्वेत क्रांति के जनक डॉ वर्गीज कुरियन की वास्तविक जीवन की कहानी पर आधारित, यह फिल्म यह दिखाती है कि अमूल सहकारी की स्थापना कैसे हुई।  इसमें जाति, लिंग और आर्थिक असमानता की पृष्ठभूमि में ग्रामीण सहकारिता की स्थापना में शामिल संघर्षों को सूक्ष्मता से दिखाया गया है।  फिल्म के नायक की लाचारी बहुत वास्तविक है।

3.त्रिशूल (यश चोपड़ा, 1978) 

त्रिशूल एक पिता-पुत्र की मेलोड्रामा फिल्‍म होने के साथ साथ  एक बिजनेस ओरिएंटेड मूवी भी है। इसकी कहानी में बताया गया है एक सफल बिजनेस मैन बनने के पीछे बेटे का संघर्ष । 

4.एक डॉक्टर की मौत (तपन सिन्हा, 1990)

यह फिल्म एक जूनियर डॉक्टर की दुखद कहानी का अनुसरण करती है, जो कुष्ठ रोग के लिए एक टीके की खोज करता है, और इसके बाद मान्यता के लिए संघर्ष करता है। अंत में दो अमेरिकी डॉक्टरों को वैक्सीन की खोज का श्रेय मिलता है। आशा की अंतिम किरण के रूप में, हमारे टूटे हुए नायक को एक विदेशी फाउंडेशन से निमंत्रण मिलता है। उसे अन्य बीमारियों पर काम कर रहे वैज्ञानिकों के एक प्रतिष्ठित समूह का हिस्सा बनने के लिए आमंत्रित करता है।  वह महसूस करता है कि उसका शोध फलदायी था, और वह निमंत्रण को स्वीकार करने का फैसला करता है क्योंकि वह मानव जाति की भलाई के लिए काम करना जारी रखता है। 

फिल्म का संदेश बड़े लक्ष्य के लिए काम करना है न कि तत्काल लाभों के लिए।  फिल्म हमें यह एहसास दिलाती है कि दुनियाँ हमेशा एक निष्पक्ष खेल का मैदान नहीं है, बल्कि यहाँ कुछ अच्छे लोग भी हैं, जिनके कंधों पर यह खड़ा है।  

5.लगान (आशुतोष गोवारिकर, 2001)

यह फिल्म विक्टोरियन युग पर आधारित है जहां ग्रामीण क्रूर ब्रिटिश शासकों के खिलाफ क्रिकेट के खेल में अपना भविष्य दांव पर लगाते हैं।  ग्रामीणों की टीम के कुछ खिलाड़ी ऐसे लोग हैं जिन्होंने पहले कभी क्रिकेट नहीं खेला है, इसलिए खेल के उतार-चढ़ाव के साथ-साथ फिल्म देखना एक खुशी की बात है। लगान दर्शकों को ब्रिटिश शासन के तहत भारत की स्थिति का एक शिखर भी देता है।  यह फिल्म एक संदेश प्रसारित करने के लिए तैयार है कि अगर कोई टीम एक लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए नेता सहित इस दिशा में काम करती है तो कुछ भी किया जा सकता है।

6.कॉर्पोरेट (मधुर भंडारकर, 2006)

इस मूवी कि कहानी corporate industry के इर्द गिर्द घूमती है जिसमे  बड़े बड़े बिजनेसमैन का काम काफी  अच्छे से प्रदर्शित करती है। मार्केट फाइट और स्किल्ड employees  का काम बेहद बखूबी से दर्शाया गया है।

7.गुरु (मणि रत्नम्, 2007)

 इस फिल्म में दर्शाया गया है की कैसे भारत के सबसे बड़े बिजनस टायकून धीरूभाई अंबानी जैसा इंसान  अपनी जिंदगी की मुश्किलों का सामना करता है।  फिल्‍म में गुरुकांत देसाई के किरदार ने बिजनस आइडियाज, सिद्धांतों और महत्‍वाकांक्षाओं को हासिल करने के लिए अपने पथ पर डेट रहने की सीख दी है।

8.रॉकेट सिंह: सेल्समैन ऑफ द ईयर (शिमित अमीन, 2009)

फिल्म की कहानी दिल्ली के एक व्यवसायी की है, जिसे उसके ही कुछ कर्मचारियों ने उसकी कंपनी का डेटा, संवेदनशील जानकारी और क्लाइंट लूट लिया था।  फिल्म कई दिलचस्प विषयों के बारे में बात करती है, उदाहरण के लिए ग्राहक सेवा जैसे अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने से पहले विचार करने के लिए, एक ऐसा कारक जिसे कई व्यवसाय गंभीरता से नहीं लेते हैं।  

9. 3 Idiots (राजकुमार हिरानी, 2009)

एक ऐसी फिल्म जो प्रेरणा, कॉमेडी, प्यार और भावनाओं का मेल है।  फिल्म में विश्वविद्यालय के तीन दोस्तों की कहानी दिखाई गई है, जिनका शिक्षा के प्रति अलग नजरिया है।  3 इडियट्स इस अवधारणा को उभारते हैं कि कोई भी डिग्री या प्रमाणपत्र किसी के ज्ञान, कौशल और प्रतिभा को साबित नहीं कर सकता है।  यह फिल्म दर्शकों को एक पूर्ण जीवन जीने के लिए निर्धारित मानदंडों से परे सोचने के लिए प्रेरित करती है।  इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर कई रिकॉर्ड तोड़े हैं। 

10.बैंड बाजा बारात (मनीश शर्मा, 2010)

यह फिल्म हमें सबक देती है कि कैसे आपको अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए डिग्री की आवश्यकता नहीं है, आपको एक ऐसी टीम की आवश्यकता है जो आपके जैसी ही महत्वाकांक्षा रखती हो।  इसने बुनियादी व्यावसायिक नैतिकता के बारे में भी दिखाया गया है जैसे कि अपने विक्रेताओं के साथ अपने भागीदारों की तरह व्यवहार करना न कि आप उनके मालिक हैं।  

11.बदमाश कम्पनी (परमीत सेठी, 2010)

यह फिल्म अपने समय से आगे की है और वास्तव में मध्यम वर्गीय परिवारों से आने वाले चार लोगों के जीवन को दर्शाने वाली हिट है।  फिल्म गलत काम करने के बारे में है, लेकिन सही तरीके से।  बदमाश कंपनी एक संदेश प्रसारित करती है कि सफल होने के लिए आपको बड़ी मात्रा में नकदी की आवश्यकता नहीं है, केवल एक बड़ा विचार है।  यह फिल्म किसी भी महत्वाकांक्षी उद्यमी को प्रेरित करने के लिए तैयार है।

12.भाग मिल्खा भाग (राकेश ओमप्रकाश मेहरा,2013) 

यह फिल्म एक दिवंगत पूर्व भारतीय एथलीट की जीवनी है जिसे फ्लाइंग सिख के नाम से भी जाना जाता है।  उनका जीवन ड्रामा से भरा रहा है इसलिए फिल्म को नाटकीय होना पड़ा।  यह फिल्म आपको 1947 में भारत-पाकिस्तान विभाजन के समय और दोनों हिस्सों में हुई हिंसा के साथ-साथ मिल्खा की यादों के नतीजों पर ले जाती है।  भाग मिल्खा भाग पसीने, रक्त, प्रेरणा, कड़ी मेहनत और सफलता से भरा है।  यह फिल्म किसी भी उद्यमी के लिए रचनात्मकता और प्रेरणा से भरपूर है। 

13.बाजार (गौरव के. चावला, 2018)

यह पूरी फिल्म Share Market के व्यवसाय पर आधारित है। इसमें दिखाया गया है कि शेयर मार्केट में किस तरह से fraud और scam होते हैं। कैसे कोई शेयर को मैनूप्लेट करके उसकी कीमत को घटा और बढ़ा देता है।

जो लोग अभी शेयर मार्केट में नये है या फिर वे stock trading करना पसंद करते हैं उन्हें यह मूवी बहुत ही ज्यादा पसंद आएगी और इस मूवी में एक शेयर मार्केट का सुपर मंत्रा भी बताया गया है कि “Share Market से रुपए कमाने से ज्यादा व्यक्ति को अपने रुपए को बचाकर रखने में होशियारी है”।

निष्कर्ष

वैसे तो सभी फिल्मों की अपनी अपनी एक अलग कहानी होती है, परंतु कुछ मूवीज़ ऐसी होती है जो एक कहानी के साथ में अपने पीछे गहरा राज छुपाए होती हैं। जो एक अच्छा बिजनेस करने की प्रेरणा भी देती हैं। इसी तरह की कुछ मूवीज़ हैं – 3 इडियट, रॉकेट सिंह सेल्‍स मैन ऑफ द ईयर, बैंड बाजा बारात, गुरु आदि।

आशा है उपरोक्त Business related Movies in Hindi से आपको अपने  बिसीनेस के लिए काफी मदद मिलेगी।

nv-author-image

Priyanka Sachan

यह उत्तर प्रदेश, कानपूर के रहने वाली है। इन्होने एम्.बी.ए किया हुआ है। पेशे से यह एक गृहणी है साथ ही साथ लिखने में भी इन्हें बहुत रूचि है।ये शिक्षा, पैसे कमाए,टेक्नोलॉजी पर आधारित आर्टिकल लिखती है। Follow Her On Facebook - Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *