कंप्यूटर क्या है? इसकी उपयोगिता, प्रकार एवं विशेषताएँ जाने?

कंप्यूटर क्या है, कंप्यूटर के विशेषताएँ, प्रकार, इतिहास, लाभ, नुक्सान, जाने | What is computer, characteristics of computer, types, history, advantages, disadvantages.

आज के समय में ज्यादातर सारे कार्य कंप्यूटर द्वारा ही किए जाते हैं इसलिए दफ्तरों, कॉलेज, स्कूल में कंप्यूटर का होना बहुत थी साधारण बात हो गई है|

इसका सबसे बड़ा कारण यह है, कि यह कार्य को बहुत सरल बना देता है इसलिए कहीं पर भी इंटरव्यू देते समय यह सवाल आ जाना कि क्या आपको कंप्यूटर के बारे में जानकारी है? या फिर क्या आपको कंप्यूटर चलाना आता है? बहुत ही सामान्य सी बात हो गई है|

आज के समय में किसी भी कार्य क्षेत्र में जाने से पहले कंप्यूटर के बारे में सामान्य जानकारी का होना बहुत ज्यादा जरूरी हो चुका है|

आज हम इस आर्टिकल में कंप्यूटर के बुनियादी ज्ञान को जानेंगे(कंप्यूटर क्या है), जो आपके भविष्य में बहुत ही सहायता करेगी|

कंप्यूटर क्या है | What is Computer in Hindi

Computer एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है| इससे हम हिंदी में संगणक भी कहते हैं| कंप्यूटर का नाम अंग्रेजी शब्द “compute” से लिया गया था जिसका अर्थ गणना करना होता है|

इसका आविष्कार चार्ल्स बैबेज ने 1822 सन में किया था| चार्ल्स बैबेज बहुत ही प्रसिद्ध गणित के प्रोफेसर थे| उन्हें सब फादर ऑफ कंप्यूटर के नाम से भी पुकारते हैं|

कंप्यूटर का आविष्कार आज से 300 वर्ष पहले केवल बड़ी गिनती ओंर गणना को हल करने के लिए किया गया था| काफी प्रयासों के बाद ही कंप्यूटर का विकास किया जाना संभव हो सका|

किताबों के अनुसार कंप्यूटर को बनाने में काफी लोगो का योगदान रहा है|

चार्ल्स बैबेज को फादर ऑफ कंप्यूटर इसलिए कहा जाता है क्योंकि उनके द्वारा बनाई गई एनालिटिकल इंजन और डिफरेंस इंजन का बहुत बड़ा योगदान कंप्यूटर को विकसित करने में|

Computer एक ऐसा यंत्र है जो उपयोगकर्ता(users)द्वारा दिए गए निर्देश का पालन करके एक नतीजे के रूप में प्रदान करता है|

कंप्यूटर द्वारा आप बहुत से कार्य कर सकते हैं जैसे दस्तावेजों को लिखना, गेम खेलना, ईमेल भेजना, इंटरनेट इस्तेमाल करना ओर भी काफी कार्यों में इसका उपयोग कर सकते हैं|

कंप्यूटर द्वारा आप किसी प्रकार की सूचना को लंबे समय तक जमा कर सकते हैं, और जरूरत के समय उसका उपयोग या प्राप्त कर सकते हैं|

अन्य आर्टिकल:

कंप्यूटर की पीढ़ियां अथवा इतिहास | Computer generation and history

डर को बेहतर बनाने के लिए कुछ कुछ समय बाद उसमें बदलाव किए गए हैं, जिन्हें जानना बहुत ही आवश्यक है|

प्रथम पीढ़ी(1940-1956):

कंप्यूटर की प्रथम पीढ़ी की शुरुआत John Mouchly और J. Presper Eckent द्वारा सना1940 में की गई| इनके द्वारा बनाए गए कंप्यूटर काफी बड़े होते थे क्योंकि इनमें वेक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल किया जाता था| यह कंप्यूटर पूरे कमरे में आते थे| आमीन के लिए इसमें पंच कार्ड  का इस्तेमाल किया जाता था|

द्वितीय पीढ़ी(1956-1963)

द्वितीय पीढ़ी ने वेक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का इस्तेमाल करना शुरू कर दिया जिसके कारण कंप्यूटर का साइज छोटा हो गया इसकी प्रोग्रामिंग के लिए भी पंच कार्ड  का इस्तेमाल किया जाता था परंतु साथ ही साथ मशीन लैंग्वेज कोबोल और फोर्टरन इस्तेमाल भी शुरू हो गया|

तृतीय पीढ़ी(1963-1971)

इन पीढ़ियों के समय इंटीग्रेटेड सर्किट का आविष्कार हो चुका था| इंटीग्रेटेड सर्किट ने कंप्यूटर के स्थाई को और ज्यादा छोटा कर दिया था| यह बिजली खर्च करना शुरू हो गए थे और साथ ही साथ इनमें कीबोर्ड और माउस का इस्तेमाल भी शुरू हो चुका था| वह बहुत कम गर्मी छोड़ते थे|

चौथी पीढ़ी(1971-1980)

इस पीढ़ी ने कंप्यूटर का आकार बहुत ही ज्यादा छोटा कर दिया था और साथ ही साथ कंप्यूटर भी काफी सस्ते हो गए थे, इस पीढ़ी ने कंप्यूटर को काफी ज्यादा आधुनिक शक्तिशाली और टिकाऊ बना दिया था| अब इन कंप्यूटर में काफी उच्च स्तरीय प्रोग्राम में की भाषाओं का इस्तेमाल होना भी शुरू हो चुका था(C,C++,D,Base,etc).

पांचवी पीढ़ी(1980- अभी तक)

पांचवी पीढ़ी मुख्य रूप से अल्ट्रा लार्ज स्केल इंटीग्रेशन(ULSI) का इस्तेमाल करती है| पीढ़ी ने कुछ एडवांस तकनीक को काफी आविष्कार किया है जैसे आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस, नैनो टेक्नोलॉजी और पैरेलल प्रोसेसिंग|

पिछली पीढ़ी बाकी की 4 पीढ़ियों के मुकाबले काफी ज्यादा आधुनिक, समझदार और तेज है, इन्होंने सबसे छोटे मल्टीटास्किंग और  ज्यादा अधिक टिकाऊ कंप्यूटर का आविष्कार किया है|

पांचवी पीढ़ी के द्वारा:- लैपटॉप, नोटबुक, डेस्कटॉप आदि आविष्कार हुए हैं|

कंप्यूटर की प्रक्रिया

Computer Processing

किसी भी कार्य को पूर्ण करने के लिए कंप्यूटर तीन प्रक्रियाओं द्वारा गुजरता है|

  1. इनपुट(Input):- जब उपयोगकर्ता कंप्यूटर को कार्य करने के लिए लिख देता है इसे इनपुट(input) कहा जाता है| उपयोगकर्ता कीबोर्ड अथवा माउस के द्वारा निर्देश देता है इसके अलावा कंप्यूटर को अन्य तरीकों द्वारा भी निर्देश दिए जा सकते हैं|
  2. प्रोसेसिंग(processing):- इसमें उपयोगकर्ता द्वारा दिए गए निर्देशों पर कंप्यूटर कार्य करना शुरू कर देता है| यह कार्य C.P.U(Central processing unit) द्वारा किया जाता है| सीपीयू को कंप्यूटर का मस्तिष्क भी कहा जाता है और यह निर्देशों को समझकर और पालन करके सार्थक जानकारी में बदल देता है
  3. आउटपुट(Output):- देशों को सार्थक जानकारी में बदलने के बाद वह आउटपुट में भेजता है, ताकि उपयोगकर्ता उसे प्राप्त कर सके| यह जानकारी उपयोगकर्ता मॉनिटर द्वारा देख सकता है|

उपयोगकर्ता कोई भी कार्य मॉनिटर द्वारा देख सकता है, तथा कार्य को भविष्य के लिए इसमें जमा भी कर सकता है|

कंप्यूटर के अंग(Parts Of Computer)

Parts of computer

कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र है जिसके बहुत से अंग होते हैं| कुछ अंग ऐसे होते हैं जिनके बिना कंप्यूटर पर कोई प्रकार का कार्य करना संभव नहीं होता है|

कंप्यूटर के कुछ अंग ऐसे होते हैं जिन्हें हम अलग से बाद में लगवा सकते हैं ताकि प्यादा कार्य कर सकें|

Hardware and software 

hardware and software
  1. हार्डवेयर(Hardware):- कंप्यूटर के वह हिस्से होते हैं जिन्हें हम देख सकते हैं| इसके द्वारा निर्देश भी दिए जा सकते हैं, और छू सकते हैं जैसे:- कीबोर्ड, माउस, सीपीयू, मदरबोर्ड, प्रिंटर, आदि|
  2. सॉफ्टवेयर(Software):- सॉफ्टवेयर बहन निर्देश और सूचनाएं होती हैं जो कंप्यूटर की सहायता करती है यह बताने में कि उसे क्या कार्य करना है| उदाहरण के लिए इस पेज पर पहुंचने के लिए पहले आप ने इंटरनेट पर निर्देश दिया फिर उसने आपके सामने पेज को लाया यह एक सॉफ्टवेयर है|

सॉफ्टवेयर और हार्डवेयर एक दूसरे के सहायक होते हैं|

कंप्यूटर के प्रकार(Types of computer)

कंप्यूटर का मतलब केवल डेस्कटॉप कंप्यूटर या लैपटॉप नहीं होता है, कंप्यूटर काफी प्रकार के होते हैं और अलग-अलग आकार के भी होते हैं| कंप्यूटर हमारे दैनिक जीवन में काफी महत्वपूर्ण योगदान देते हैं|

  1. डेस्कटॉप कंप्यूटर(Desktop computer):- डेस्कटॉप कंप्यूटर का प्रयोग ज्यादातर स्कूल, कॉलेज, और दफ्तरों में किया जाता है यह अलग-अलग हिस्से जैसे माउस, कीबोर्ड, मॉनिटर और सीपीयू से बना होता है| यह खासकर किसी टेबल या डेस्क पर रखने के लिए बनाया गया है|
  2. लैपटॉप(Laptop):- कंप्यूटर बैटरी द्वारा चलता है| इस कंप्यूटर में माउस कीबोर्ड के अंदर ही जुड़ा होता है| इसकी खास बात यह है कि इसका प्रयोग आप कहीं पर और किसी भी जगह कर सकते हैं|
  3. टेबलेट कंप्यूटर(Tablet computer):- कंप्यूटर लैपटॉप से भी छोटा कंप्यूटर है और इससे कहीं पर भी आसानी से लेकर जाया जा सकता है| इसमें माउस या कीबोर्ड की जरूरत नहीं होती, इसमें स्क्रीन को टच करके ही टाइप और नेविगेट किया जा सकता है|
  4. सरवर(server):- यह कंप्यूटर अन्य कंप्यूटर को जानकारियां देने का कार्य करता है यह फाइलों को स्टोर और अन्य कंप्यूटरों के साथ शेयर करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है|
  5. स्मार्टफोन(Smartphone):- वह सेलफोन जिस पर हम इंटरनेट का प्रयोग करते हैं, गेम खेलते हैं और ईमेल भेजते हैं आदि| वह स्मार्टफोन कहलाते हैं यह एक कंप्यूटर का प्रकार ही होते हैं|
  6. पहनने योग्य(wearable):- जिन्हें हम पूरे दिन पहन सकते हैं, जैसे स्मार्ट वॉच फिटनेस ट्रैकर आदि| यह उपकरण बैटरी पर चलते हैं और बहुत सुविधापूर्ण होते हैं|
  7. टीवी(T.V):- आजकल कहीं नई प्रकार की टीवी आ गए हैं जिन पर आप इंटरनेट का प्रयोग कर सकते हैं और साथ ही अपने फोन से जोड़कर आप भी चला सकते हैं और कई प्रकार की ऑनलाइन सामग्री तक देख और पहुंच भी सकते हैं|
  8. गेम कंसोल(Game control):- इस कंप्यूटर का इस्तेमाल गेम खेलने के लिए और टीवी पर वीडियो देखने के लिए किया जाता है|

कंप्यूटर की विशेषताएं (features/characteristic of computer)

  1. गति(speed):- कंप्यूटर कोई भी कार्य को काफी तेजी से करने की क्षमता रखता है वह कुछ ही सेकंड में गुणा भाग जोड़ घटाना आदि कार्य भी कर सकता है|
  2. स्वचालन(Automotion):- कंप्यूटर अपने कार्य को स्वचालित तरीके से करने की क्षमता रखता है| एक बार कंप्यूटर में प्रोग्राम लोड करने के बाद वह अपना कार्य स्वयं ही कर लेता है|
  3. उच्च संग्रहण क्षमता(High storage capacity):- कंप्यूटर काफी भारी मात्रा में डाटा को जमा करने की क्षमता रखता है| वह कितने भी लंबे समय के लिए किसी भी प्रकार के डाटा को जमा करके रख सकता है, जैसे:- फोटो, वीडियो, आदि| लंबे समय बाद भी आप किसी भी प्रकार के डाटा को सिर्फ कुछ ही क्षणों में निकाल कर देख सकते हैं|
  4. विश्वसनीयता(Reliability):- कंप्यूटर की खास बात यह है, कि वह किसी भी प्रकार के डाटा को लंबे समय तक गुप्त रखने की क्षमता रखता है और काफी समय बाद भी वह आपको बिल्कुल सही और सटीक परिणाम देता है|
  5. कर्मठता(Diligence):- मानव किसी भी कार्य को निरंतर नहीं कर सकता परंतु कंप्यूटर इससे बिल्कुल विपरीत है वह कार्य को निरंतर काफी लंबे समय तक करने की क्षमता रखता है और लंबे समय बाद भी बिल्कुल बिल्कुल सटीक परिणाम देता है|

कंप्यूटर के लाभ(Advantages of computer)

  1. कंप्यूटर एक ऐसा इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो मनुष्य उसे बहुत तेज गति से काम करता है और बहुत से डाटा के साथ प्रोसेसिंग करने की भी क्षमता रखता है|
  2. सही निर्देश के साथ सही जानकारी प्रदान करना और मानव की तुलना में उसके परिणाम काफी सटीक होते हैं|
  3. कंप्यूटर में बहुत सारा डाटा जमा किया जा सकता है और हर प्रकार  किया जा सकता है जैसे ऑडियो, वीडियो, फोटो, आदि|
  4. कंप्यूटर बहुत लंबे समय तक कार्य करने की क्षमता रखते हैं और हर बार एक शुद्ध सामान परिणाम देते हैं|
  5. ट्यूटर पर किए गए कार्य में कागज का प्रयोग नहीं होता इसलिए इसे प्रकृति पर भी कोई प्रकार नुकसान नहीं होता|

कंप्यूटर के नुकसान (Disadvantage of computer)

  1. कंप्यूटर केबल उतना ही कार्य करता है जितना निर्देश दिया गया हो वह स्वयं सोच नहीं सकता|
  2. ट्यूटर को कार्य करने के लिए साफ जगह चाहिए होती है, धूल की वजह से वह कार्य करना बंद कर सकता है|
  3. एक उपकरण और यंत्र होने के कारण उसमें मनुष्य की तरह कोई भी प्रकार की भावनाएं नहीं होती है|
  4. इंटर में जमा किए गए डाटा पर वायरस और साइबर आदि का खतरा लगा रहता है|
  5. कंप्यूटर में जमा किए हुए डाटा के साथ कुछ भी कर सकते हैं|

सारांश(Summary)

  1. कंप्यूटर एक इलेक्ट्रॉनिक यंत्र जिसको हिंदी में भी कहा जाता है|
  2. कंप्यूटर का आविष्कार सन1822 मैं चल बे देश द्वारा किया गया|
  3. चार्ल्स बैबेज को फादर ऑफ कंप्यूटर इसलिए कहा जाता है क्योंकि उनके द्वारा बनाए गए इंजन ने कंप्यूटर के विकास में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है|
  4. कंप्यूटर 3 प्रक्रियाओं द्वारा गुजरता है इनपुट, प्रोसेसिंग और आउटपुट|
  5. डर को 2 अंगों में विभाजित किया गया है हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर|
  6. हार्डवेयर वाले हिस्सों को देखा जा सकता है और छुआ भी जा सकता है, सॉफ्टवेयर के हिस्सों द्वारा कंप्यूटर को निर्देशों को देने का कार्य किया जाता है|
  7. कंप्यूटर के अलग-अलग प्रकार होते हैं जैसे डेस्कटॉप कंप्यूटर  लैपटॉप कंप्यूटर, टेबलेट कंप्यूटर, सरवर स्मार्टफोन, पहनने योग्य, टीवी, गेम कंसोल आदि|
  8. कंप्यूटर की बहुत सी विशेषताएं हैं व जैसे गति, स्वचालन, उच्च संग्रहण क्षमता, विश्वसनीयता, कर्मठता,
  9. कंप्यूटर के काफी लाभ भी है जैसे कंप्यूटर में काफी लंबे समय तक डाटा स्टोर किया जा सकता है और इसकी खास बात यह है यह किसी भी प्रकार से पर्यावरण को नुकसान नहीं पहुंचाता है|
  10. कंप्यूटर के कुछ नुकसान भी है जैसे कंप्यूटर केवल वही कार्य करता है जितना उसे कहा गया हो, कंप्यूटर मैं जमा किए गए हुए डाटा को हैकर द्वारा करप्ट भी किया जा सकता है|

निष्कर्ष- What is computer in Hindi

इस आर्टिकल में हमने कंप्यूटर के बारे में काफी विस्तार में जानकारी देने की कोशिश की है, जैसे कंप्यूटर क्या है? किसने बनाया है? कंप्यूटर का इतिहास क्या है ?कैसे कार्य करता है? इसके कितने प्रकार हैं? कंप्यूटर की क्या विशेषताएं होती हैं? इसके क्या फायदे हैं और क्या नुकसान है| उम्मीद करते हैं यह सारी जानकारी आपके लिए लाभदायक होगी और भविष्य में आपकी सहायता करेगी|

1 thought on “कंप्यूटर क्या है? इसकी उपयोगिता, प्रकार एवं विशेषताएँ जाने?”

  1. Pingback: URL क्या है - What is URL in Hindi?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *