Coronavirus Essay | कोरोना वायरस पर निबंध

Coronavirus Essay: देश में कोरोना महामारी का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है। आये दिन सैकड़ों हजारों लोग इस जानलेवा वायरस का शिकार हो रहे हैं,और मौत के घाट उतार रहे हैं। सरकार ने इसकी रोकथाम के लिए कई महत्वपूर्ण कदम उठाए हैं,लेकिन कोरोना लोगों को अपना शिकार लगातार बना रहा है।

Coronavirus Essay
अनुक्रम दिखाए

कोरोना वायरस संक्रमण क्या हैं?

कोरोना वायरस संक्रमण आज विश्व स्तर पर शैली एक ऐसी महामारी है मुझे सुनें विश्व के विभिन्न देशों को अपने चपेट में कर रखा है। आय दिन इस वायरस के संक्रमण से मृत्यु दर में लगातार वृद्धि होती जा रही है। चीन के वुहान प्रांत से शुरू होने वाली यह महामारी आज विश्व के 70 देशों में फैल गई है।

कोरोनावायरस एक ऐसी महामारी है, जो मरीज के फेफड़े को पूरी तरह से प्रभावित करती है और कुछ दिनों बाद इसके लक्षण सामने आने लगते हैं। इस महामारी से लड़ने के लिए हमारे शरीर में इम्यूनिटी की बेहद आवश्यकता होती है जिसके माध्यम से कोरोना वायरस के खतरे से छुटकारा पाया जा सकता है। यह एक ऐसी महामारी है जिसके लिए कोई उपयुक्त दवा अभी तक नहीं बनी है और यही कारण है कि इससे खतरनाक महामारी की श्रेणी में रखा गया है। लगातार फैलते हुए संक्रमण को देखते हुए WHO ने इसे महामारी का नाम दे दिया है।

कोरोना वायरस संक्रमण के प्रमुख लक्षण क्या है?

कोरोना वायरस संक्रमण होने पर व्यक्ति में इसके लक्षण साफ दिखाई देने लगते हैं, जिसके माध्यम से यह पता लगाया जा सकता है कि वह व्यक्ति कोरोना से संक्रमित है। दरअसल कोरोना वायरस के लक्ष्ण 2 से 14 दिनों के अंदर दिखाई देते हैं। इसके प्रमुख लक्षण निम्नलिखित हैं –

  1. बुखार
  2. सिर दर्द
  3. शरीर दर्द
  4. सांस लेने में तकलीफ
  5. गले में खराश
  6. भोजन करते वक्त स्वाद न आना
  7. लंबे समय तक थकान होना
  8. मांसपेशियों में जकड़न

यदि व्यक्ति को ऐसे लक्षण अपने शरीर में महसूस होते हैं तो यह बेहद आवश्यक है कि कोरोना वायरस टेस्ट अवश्य करवाएं एवं चिकित्सक की सलाह लेकर दवाइयों का सेवन करें।

कोरोना वायरस संक्रमण किस प्रकार फैलता है?

कोरोना वायरस का संक्रमण एक ऐसा संक्रमण है, जो व्यक्तियों के नाक और मुंह से निकलने वाली छींक और खांसी के जरिए एक संक्रमित व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक पहुंचता है और संक्रमित कर देता है। इसके अलावा कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति से लगातार संपर्क बनाए रखने से कोरोना वायरस का संक्रमण होने का खतरा अधिक रहता है।

कोरोना महामारी से बचने के लिए क्या करें?

कोरोना वायरस का संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में आसानी से फैल सकता है और इसे आसानी से रोक पाना संभव नहीं है। यही कारण है कि कोरोना वायरस का संक्रमण होने से पहले कुछ बातों का विशेष ध्यान होना आवश्यक है। कोरोना महामारी से बचने के लिए आप कुछ साधारण परंतु महत्वपूर्ण कदम उठा सकते हैं, निम्नलिखित है –

  1. हमेशा अपने चेहरे को मास्क से ढकें।
  2. बाहर जाते वक्त सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करें।
  3. अपने हाथ एवं चेहरे को कुछ समय बाद बाद साबुन और पानी से धोते रहें।
  4. बस अथवा रेलगाड़ियों से यात्रा करने से बचें।
  5. अपने हाथ से चेहरे को बार-बार न छुएं।
  6. शरीर में इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए स्वास्थ्य एवं संतुलित भोजन का सेवन करें।
  7. सार्वजनिक जगहों जैसे बाजार अथवा शॉपिंग मॉल जाने से बचें।

कोरोना वायरस से बचने एवं इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए किन घरेलू उपायों को अपनाया जा सकता है


कोरोनावायरस के संक्रमण से बचने के लिए हमारे शरीर में इम्यूनिटी का होना बेहद जरूरी होता है। इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए आप घर पर ही विभिन्न घरेलू उपायों को अपना सकते हैं। इसके लिए कुछ घरेलू उपाय निम्नलिखित है –

  1. तुलसी के पत्ते को निचोड़ कर 1 लीटर पानी में डाल दें और इसे तब तक उबालें जब तक इसका एक चौथाई अंश न बचता हो। इसमें काली मिर्च, नींबू का रस और गुड़ मिला दें। अब इसका प्रयोग हर्बल चाय के रूप में करें तथा दिन में दो से तीन बार इसका सेवन करें। इससे बुखार के लक्षण समाप्त हो जाते हैं और इम्युनिटी बढ़ती है।
  2. अदरक के कुछ टुकड़ों के साथ आधा चम्मच जीरा, आधा चम्मच हल्दी और नींबू के रस को मिलाकर इस पेस्ट का सेवन करें। ऐसा करने से कोरोनावायरस संक्रमण के दौरान खांसी सर्दी दूर हो जाती है।
  3. पालक में प्रचुर मात्रा में विटामिन पाया जाता है। इसमें एंटी ऑक्सीडेंट के कारण हमारे शरीर में वायरस से लड़ने में यह बेहद कारगर होता है। यही कारण है कि पालक का सेवन करने से हमारे शरीर में इम्यूनिटी भी बढ़ती है।
  4. आंवला पाउडर इम्यूनिटी बढ़ाने में बेहद सहायक होता है। सबसे पहले इसके लिए आंवला पाउडर लें और इसमें शहद मिलाएं। अब इस पेस्ट का सेवन प्रतिदिन करें। इससे इम्युनिटी बढ़ती है और वायरस के संक्रमण का खतरा कम रहता है।
  5. इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए लहसुन की पांच कलियां लें और इसे सेब के सिरके में भिगोकर एक दिन रख दें। अब इसका सेवन करें। यह इम्यूनिटी बढ़ाने और वायरस के संक्रमण को दूर करने में सहायक होता है।

कोरोना वायरस संक्रमण होने के दौरान मरीज को कौन-कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए

देश में कोरोना वायरस एक ऐसी संक्रमित महामारी के रूप में उभर रहा है, जिसमें इस वायरस से संक्रमित व्यक्तियों को कई प्रकार की सावधानियां बरतने की जरूरत है। इसके लिए निम्नलिखित बातों पर ध्यान देना बेहद आवश्यक है –

  1. कोरोना वायरस से संक्रमित मरीज को अलग कमरे में रहना चाहिए ताकि इस वायरस का संक्रमण परिवार के अन्य लोगों तक न पहुंच सके।
  2. कोरोना वायरस से संक्रमित व्यक्ति के परिवार वालों को भोजन देते समय दूरी बनाकर ही भोजन देना चाहिए ताकि संक्रमण फैलने की संभावना कम हो।
  3. कोरोना वायरस के संक्रमण के दौरान यह आवश्यक है कि ऐसे कमरे का चयन करें जहां वेंटिलेटर एवं खिड़कियां हो।
  4. संक्रमण के दौरान यह ध्यान रखना बेहद जरूरी है कि कोरोना वायरस का मरीज उस बाथरूम का प्रयोग न करें जिसका प्रयोग उसके परिवार वाले कर रहे हैं क्योंकि ऐसे में संक्रमण फैलने की संभावना में वृद्धि होती है।
  5. कोरोना वायरस के मरीज के अलावा उसके परिवार वालों के लिए भी यह आवश्यक है कि जितना हो सके दूरी बनाए रखें और हमेशा चेहरे पर मास्क का प्रयोग करें। इसके अलावा सैनिटाइजर से अपने हाथों को सैनेटाइज करते रहे।

कोरोनावायरस के कारण भारत की अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव पड़ा है

कोरोना वायरस के प्रभाव से केवल भारत ही नहीं बल्कि विश्व के विभिन्न देशों की अर्थव्यवस्था दांव पर लग चुकी है। विश्व बैंक (World Bank) के द्वारा प्राप्त हुए रिपोर्ट के मुताबिक देखा गया है कि भारत की अर्थव्यवस्था में कोरोना वायरस के कारण लगातार गिरावट आ रही है। इतना ही नहीं इसके अलावा शिक्षा, व्यवसाय आदि पर भी बुरा प्रभाव देखने को मिला है। कोरोना वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए लॉकडाउन की प्रक्रिया लंबे समय से जारी है और इसी वजह से बड़े-बड़े व्यवसाय एवं फैक्ट्रियां भी बंद है। इसके प्रभाव से घरेलू आपूर्ति की मांग भी लगातार बढ़ रही है।

भारत में लॉकडाउन एवं सोशल डिस्टेंसिंग के कारण भी अर्थव्यवस्था की दृष्टि से काफी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है। इसके कारण औद्योगिक उत्पादन में भी गिरावट आई है। भारत में लॉकडाउन के कारण विभिन्न पर्यटक स्थल भी बंद हैं, जिसके फलस्वरूप पर्यटन आय भी नहीं हो रही है। हमारे देश की स्थिति कुछ इस प्रकार है कि कई अनौपचारिक क्षेत्रों से 50% जीडीपी प्राप्त हो जाती है और लॉकडाउन के कारण यह भी ठप्प पड़ गई है। 2019-20 के दौर में भारत को अर्थव्यवस्था से संबंधित कई परेशानियों का सामना करना पड़ा है। इस प्रकार कोरोनावायरस के संक्रमण से निम्नलिखित परिणाम देखे जा सकते हैं –

  1. कोरोना वायरस के संक्रमण से इंधन की खपत में भी लगातार गिरावट हो रही है तथा एलपीजी की मांग में वृद्धि देखी गई है।
  2. भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण से पर्यटन उद्योग पूरी तरह से ठप्प पड़ गया है, जिससे अर्थव्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ा है।
  3. लॉकडाउन के दौरान भारत में सभी स्कूल एवं कॉलेज बंद कर दिए गए हैं, जिससे शिक्षा व्यवस्था को लेकर भारी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।
  4. कोरोना वायरस के संक्रमण के फलस्वरुप भारत में बेरोजगारी की समस्या में लगातार वृद्धि होती जा रही है। इसे अपने नियंत्रण में करना सरकार के लिए काफी मुश्किल हो गया है।
  5. भारत में इस वायरस के दूसरे लहर के दौरान अभी विभिन्न उद्योग धंधे एवं व्यवसायों के बंद हो जाने पर सरकारी आय में भी काफी कमी आई है, जो इसे काफी प्रभावित कर रही है।

कोरोना वायरस के लिए कौन-कौन सी वैक्सीन उपलब्ध है

आज के समय में कोरोनावायरस की लहर इतनी तीव्रता से बढ़ती जा रही है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचना बेहद आवश्यक हो गया है। इसके लिए सरकार द्वारा वैक्सीन बनाने की प्रक्रिया लंबे समय से जारी है और अब वैक्सीन तैयार हो चुकी है। कोरोना वायरस वैक्सीन लेने से पहले इस बात का ध्यान रखें कि यह केवल 18 वर्ष से अधिक उम्र के लोग ही ले सकते हैं। यहां हम आपको कोरोनावायरस के लिए आने वाली वैक्सीन के बारे में बताने वाले हैं जो कुछ इस तरह से है –

  1. Covishield : कोरोनावायरस के उपचार के लिए यह वैक्सीन सिरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया द्वारा तैयार किया गया है। इसका निर्माण सर्दी जुकाम वाले वायरस से हुआ है। या दिखने में कोरोना वायरस के समान होता है लेकिन किसी भी प्रकार की हानि नहीं पहुंचाता। इस वैक्सीन की डोज 12 हफ्तों के अंतराल पर दी जाती है।
  2. Covaxin : कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन को भारत बायोटेक ने बनाया है। इस वैक्सीन को एनएक्टिवेट वैक्सीन के रूप में जाने जाते हैं क्योंकि इसका निर्माण मृत कोरोनावायरस से हुआ है। जब इस वैक्सीन का हमारे शरीर में प्रयोग होता है तब इम्यूनिटी बनाने वाली कोशिकाएं इसे पहचान जाती हैं और इसके खिलाफ एंटीबॉडीज तैयार करने लगती है। यह हमारे शरीर में इम्यूनिटी के निर्माण में मदद करती है और कोरोनावायरस से संक्रमण से बचाती है।
  3. Pfizer : इस कंपनी की वैक्सीन को ड्रग कंट्रोल ऑफ इंडिया (DCGI) के सामने अप्लाई किया गया है। इसकी पेरेंट कंपनी को 2 देशों से अप्रूवल भी मिल चुकी है, जो यूनाइटेड किंगडम और बहरीन है। DCGI से मंजूरी मिल जाने पर इस वैक्सीन का प्रयोग निश्चित कर दिया जाएगा।

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए सरकार द्वारा उठाए जाने वाले विभिन्न महत्वपूर्ण कदम क्या हैं

भारत में कोरोनावायरस के संक्रमण से अर्थव्यवस्था में भारी गिरावट आई है लेकिन मृत्यु दर में वृद्धि को देखते हुए सरकार ने कई महत्वपूर्ण कदम उठाया है। इसमें कुछ महत्वपूर्ण कदम निम्नलिखित हैं –

  1. भारत में राज्य एवं केंद्र स्तरीय सभी विद्यालयों और विश्वविद्यालयों को बंद करने के दिशा निर्देश दिए गए हैं एवं शिक्षा को ऑनलाइन प्रक्रियाओं के माध्यम से जारी रखा जा रहा है।
  2. सरकार के द्वारा उठाए गए विभिन्न महत्वपूर्ण कदमों के अंतर्गत लॉकडाउन के दिशा निर्देश दिए गए हैं ताकि कोरोना वायरस का संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।
  3. सार्वजनिक स्थानों जैसे दुकान, बाजार, शॉपिंग मॉल आदि में सोशल डिस्टेंसिंग को मेंटेन करना सुनिश्चित कर दिया गया है।
  4. कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश के कई राज्यों को यह आदेश दिया गया है कि मास्क न लगाने पर अब व्यक्ति को चालान कटवाने होंगे।
  5. कोरोना वायरस के संक्रमण से निपटारा के लिए पुलिस विभाग को भी अलर्ट कर दिया गया है कि वे अपने अधीन आने वाले क्षेत्रों में सोशल डिस्टेंसिंग एवं लॉकडाउन के पालन हेतु जागरूक करें एवं अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाएं।

निष्कर्ष- Coronavirus Essay

कोरोना वायरस के संक्रमण से संबंधित सभी जानकारियां यहाँ उपलब्ध करवाने का प्रयास किया गया है। कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर बरती जाने वाली सावधानियों के साथ-साथ इसके लक्षण, कारण एवं घरेलू उपायों को ध्यान में रख कर एवं उनपर अमल करके इस संक्रमण से बचा जा सकता है। इसके अतिरिक्त कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए देश में विभिन्न वैक्सीन का निर्माण किया जा रहा है, जिनसे की इस वायरस से लड़ने की क्षमता प्राप्त हो सकेगी। और कोरोना को हराना सम्भव हो सकेगा। इसके अलावा भारत की अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस के प्रभाव एवं सरकार द्वारा उठाए गए कदमों के बारे में भी उपरोक्त सारी जानकारियाँ प्रदान की गई हैं। इनके माध्यम से आप सरकार द्वारा उठाए गए कदमों से अवगत हो सकते हैं ।कोरोना महामारी के खिलाफ हमारे शरीर की प्रतिरोधक क्षमता ही सबसे बड़ा हथियार है। इस लिए अपने प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के घरेलू उपायों को अपना कर कोरोना वायरस के संक्रमण से बचा जा सकता है। सावधानी में ही हम सबकी एवं देश की सुरक्षा निहित है।

अन्य आर्टिकल भी पड़े

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *