नमस्कार पाठकों

मित्रों आज के समय कोरोना वायरस ने बहुत से लोगों को बहुत क्षति पहुंचाई है, जिसके कारण बहुत से लोग अपने प्रियजनों को खो चुके हैं। बहुत से लोगों की नौकरी आ जा चुके हैं। अधिकतर मिडिल क्लास के लोग, लोअर क्लास पर आ चुके हैं।

इसी कारण कोरोना ने सामान्य लोगों को असामान्य क्षति पहुंचाई है, यह बहुत ही दुखद है, मित्रों जब भी किसी व्यक्ति को कोरोना होता है तो वह तुरंत ही अस्पताल की ओर जाता है। लेकिन जब वह अस्पताल की ओर जाता है तो अस्पताल में उससे बहुत प्रकार के test करवाने होते हैं। जिससे यह साबित होता है कि उसे कोरोनावायरस है भी या नहीं। और यदि कोरोना है भी तो कितने स्तर का है।

यह सारी जानकारी विभिन्न प्रकार के test करवाने पर मिलती है। आजकल खबरों में एक test का नाम बहुत जोरों शोरों से लिया जाता है, उसका नाम है CRP-Test ।

मित्रों आज के लेख में हम यह जानेंगे कि CRP-Test का पूरा नाम क्या होता है, क्यों करवाया जाता है। CRP-Test कब करवाया जाता है और यदि हम यह test करवाते हैं तो उसका हमें क्या फायदा मिलता है। और यदि हम यह test ना करवाएं तो इसका क्या नुकसान झेलने पड़ सकता हैं।

आज के लेख में हम CRP-Test in hindi से संबंधित पूरी जानकारी आपको प्रदान करेंगे।

तो चलिए शुरू करते हैं-

CRP-Test क्या है – CRP-Test in hindi

crp test in hindi

मित्रों CRP-Test का पूरा नाम सीरियल प्रोटीन test है। यह एक ब्लड test होता है और इस test के द्वारा आपके शरीर के अंदर किसी भी प्रकार की सूजन का पता लगाया जाता है। जैसे कि आप की नसों में, आपकी फेफड़ों में, आपके किडनी में, आपके श्वास नलिका में या किसी भी प्रकार की कोई भी तंत्रिका में यदि किसी भी प्रकार की सूचना आती है तो इस test के द्वारा उसका पता लगाया जा सकता है।

CRP-Test क्यों करवाया जाता है?

करोना के कारण बहुत से लोग मृत्यु को प्राप्त हो रहे हैं। कोरोना वायरस के कारण विश्व भर में मरने वाले लोगों की संख्या 45,98,041 तक पहुंच चुकी है। यह एक बहुत बड़ी संख्या है। इसी कारण लोगों की जान बचाने के यह test करवाया जाता है ताकि इस test के कारण लोगों के शरीर में किसी भी प्रकार की सूजन का पता लगाया जा सके। या इस प्रकार की कोई भी जानकारी जो कोरोनावायरस के कारण व्यक्ति के शरीर को हानि पहुंचा रही हो, उसका पता लगाया जा सके।

मित्रों कोरोना वायरस के कारण हमारे शरीर पर बहुत से दुष्प्रभाव पड़ते हैं दुष्प्रभाव हमारी कई बार तंत्रिका तंत्र काम करना बंद कर देती है, इंटरनल नर्वस सिस्टम काम करना बंद कर देता है। इसी कारण हमारी फेफड़े और हमारी किडनी भी कई बार काम करना बंद कर देती है, क्योंकि यदि जब यह निश्चित सीमा से ज्यादा सूज जाती है और इसी सूजन का पता लगाने के लिए CRP-Test किया जाता है।

इस test को करवाने के बाद में डॉक्टर इस बात का पता लगा सकते हैं कि कोरोना वायरस ने आपके शरीर में कितनी हानि पहुंचाई है। और क्या इस हानि का समाधान करा जा सकता है या नहीं, डॉक्टर को आपके शरीर के बारे में और भी बहुत सी जानकारी CRP-Test के माध्यम से पता चलती है। CRP-Test हमारे शरीर में हो रही किसी भी प्रकार के infection का पता समय रहते लगा लेता है।

CRP-Test कैसे काम करता है?

मित्र CRP-Test का काम करने का तरीका बहुत ही सरल है। यह test करवाने के लिए आपको किसी के अस्पताल में जाना होता है। और वहां पर आप डॉक्टर के निर्देशानुसार यह test करवा सकते हैं। इस test में आपके शरीर की चेकिंग के बाद में आपकी report में एक value दी जाती है। यदि वह value 0-1 के मध्य आती है तो वह value सामान्य कही जाती है जिसमें आपको शरीर को कोई खतरा नहीं होती है लेकिन यदि आपकी value 1 से अधिक आती हैं तो इसमें यह पता लगाया जा सकता है कि आपको अपने आप को संभालने की आवश्यकता है और डॉक्टर के सलाह पर आपको कुछ समाधान करने की जरूरत है।

यदि CRP-Test में आपके report की value 0 से लेकर के 1 के मध्य नहीं आती है या उससे ज्यादा आती है तो इसका यह मानना हो सकता है कि आपके शरीर में कहीं ना कहीं कुछ ऐसी जगह सूजन बढ़ रही है जिसका इलाज होना आवश्यक है अन्यथा आपकी जान भी जा सकती है।

CRP-Test के क्या फायदे हैं

मित्रों CRP-Test का हमें यह फायदा मिलता है कि हमें कोरोनावायरस के कारण हमारे शरीर में हो रहे नुकसान का पहले से पता चल जाता है। और उसका इलाज करवाने का हमें एक समय मिल जाता है। जिसके कारण हमारे जीवित रहने की संभावनाएं बढ़ जाती है। और इलाज के कारण हमें अच्छी जिंदगी मिल सकती है। हमारी जान को भी खतरा नहीं होता और यह CRP-Test का सबसे बड़ा फायदा है।

CRP-Test कब करवाया जाता है?

मित्रों जब आप कोरोना positive हो जाते हैं और डॉक्टर के पास जाते हैं तो डॉक्टर की सलाह पर आपको हर 4 से 5 दिन में एक बार यह test करवा लेना होता है। क्योंकि यह आपके शरीर पर हो रहे दुष्प्रभाव का पहले से पता लगा लेता है और आपको इलाज करवाने का बहुत ही अच्छा समय मिल जाता है। जिससे आप के जीवित रहने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं और आपके ठीक होने की संभावनाएं बढ़ जाती है।

Conclusion

तो मित्रो आज के लेख में हमने जाना कि CRP-Test का पूरा नाम क्या है, CRP-Test किस काम आता है, CRP-Test कब करवाया जाता है, CRP-Test किस प्रकार काम करता है और CRP-Test के फायदे क्या क्या है। हमने CRP-Test in hindi के बारे में पूरी जानकारी प्राप्त करी। हम आशा करते हैं कि आपको आपके सवालों के सारे जवाब मिल चुके होंगे। यदि आपको यह लेख पसंद आए तो कृपया इस लेख को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें।

धन्यवाद!

CRP Test in hindi से संबंधित (FAQ)

Q. CRP-Test क्या होता है?

Ans. CRP-Test का पूरा नाम सी-रिएक्टिव प्रोटीन test होता है। यह एक प्रकार का ब्लड test है। जिसकी सहायता से आपके शरीर में किसी भी प्रकार के infection या inflamation का पता लगता है।

Q. CRP level हाई क्यों जाता है?

Ans. CRP level हाई तब जाता है जब आपके शरीर में किसी भी प्रकार का कोई ऐसा infection होता है जो आपके शरीर में ब्लड के फ्लो को अवरुद्ध करता है या किसी कारण से उस ब्लड फ्लो को बहुत ही तेज सीमा तक बढ़ा देता है।

Q.CRP level normal कब रहता है?

Ans. CRP-Test नहीं जाती आपके report की value जीरो से लेकर 1 के मध्य रहती है, तब आपका CRP level normal रहता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *