Skip to content

Cyber Security क्या है, इसके प्रकार, फायदे महत्व In Hindi

साइबर सुरक्षा क्या है, इसका रोल, फायदे, महत्व, प्रकार, साइबर सिक्योरिटी कैसे काम करते है | Cyber Security Kya Hain In Hindi

दोस्तों आज के इस modern और technical युग में पूरे विश्व के लोग इंटरनेट के माध्यम से आपस में जुड़े हुए हैं। 

कोरोना जैसे महामारी के बाद से ही हमारे देश में साइबर फ्रॉड के मामलों में भी काफी वृद्धि हुई है। हाल ही में ऐसे अनेक मामले सामने निकल कर आए हैं, जहाँ साइबर ठगों द्वारा लोगों को लाखों की चपत लगाई गई। 

आज इस लेख में हम आपको साइबर सिक्योरिटी इन हिंदी (Cyber Security in Hindi) के बारे में पूरी जानकारी देंगे जिससे आप इस fraud से बच सकें।

Cyber Security in Hindi

Cyber Security का क्या role है ?

यह एक प्रकार की ऐसी सुरक्षा है जो Internet से जुड़े हुए system के लिए एक सिक्यूरिटी होती है जिसके द्वारा Hardware और Software data को और भी secure बना दिया जाता है जिससे की किसी भी तरह का data चोरी न हो सके और सभी document और files  safe रहें। 

आजकल internet और technology का  use बहुत ज्यादा बढ़ गया है और Users अपना पर्सनल डाटा, files, अपने कई तरह के Devices, Softwares और अलग अलग Networks के माध्यम से share  करते है। परन्तु ये सब कितना सिक्योर होगा उसकी कोई गारंटी नहीं होती है। ऐसे में साइबर सिक्योरिटी काफी ज्यादा जरुरी है। 

Cyber Security इंटरनेट सिस्टम्स के लिए एक प्रकार की सुरक्षा है जो कंप्यूटर, Hardware’s, Software’s और Data को साइबर अपराध से बचाने का कार्य करती है। 

Cyber Security in Hindi की परिभाषा 

Cyber Security दो शब्दों से मिलकर बना है- Cyber और Security

जितनी भी इंटरनेट इनफार्मेशन Technology, कंप्यूटर नेटवर्क, Application या Data से सम्बंधित है उसे Cyber कहते हैं। 

जबकि Security का संबंध सुरक्षा से है, जिसमे System Security, Network Security, Application और Information Security शामिल है। 

सरल शब्दों में साइबर सिक्योरिटी का काम इंटरनेट नेटवर्क से जुडी Devices, Softwares और Data और नेटवर्क को सुरक्षा प्रदान करना होता है। 

Cyber Crime के प्रकार 

प्रतिदिन नये नये टेक्नोलॉजी बनते और बदलते रहते हैं और इसी कारण दुनिया में जितने भी साइबर हमले होते है वे सब भी अलग अलग प्रकार से किये जाते हैं। 

1. Hacking – ऐसे Cyber Crime में हैकर किसी दूसरे इंसान के अनुमति के बिना उसके restricted area से पर्सनल डाटा और Sensitive इनफार्मेशन को access करते हैं और personal database को हैक करके बैंक अकाउंट का miss use करते है।

2. Cyber Theft–  यह साइबर अपराध का एक हिस्सा है जिसका अर्थ है कि  इंटरनेट के माध्यम से की गई चोरी। इसके अंतर्गत व्यक्ति के पहचान की चोरी, पासवर्ड की चोरी, सूचना की चोरी, आदि शामिल हैं। ऐसे Cyber Crime(Cyber Security in Hindi) में हैकर Copyright कानून का उल्लंघन करता है। 

3. Cyber Stalking-  इस प्रकार के Cyber Crime सोशल मीडिया sites में अक्सर देखने को मिलता है। जिसमें Stalker किसी इंसान को बार-बार गंदे मेसेज या ईमेल कर के उसे परेशान और उत्पीड़ित करता है। खासकर Stalker छोटे बच्चो और ऐसे लोगों को अपना शिकार बनाते हैं जिन्हें इन्टरनेट की ज्यादा जानकारी नहीं होती है और फिर Stalker उस इंसान को Blackmail करना शुरू कर देते हैं।

4. Identity Theft– इस प्रकार के Cyber Crime  में हैकर उन लोगों को target करते हैं जो online Cash Transactions और banking service जैसे Google Pay, Phonepe, Paytm का इस्तेमाल करते है। ऐसे crime में hackers किसी का पर्सनल डाटा जैसे अकाउंट नंबर, डेबिट कार्ड डिटेल, इन्टरनेट बैंकिंग डिटेल्स आदि जानकारी अनुचित तरीके से हासिल कर के उसका सारा पैसा निकाल लेते हैं। 

5. Malicious Software– Malware attack साइबर हमलों का सबसे कॉमन प्रकार है। यह साइबर अपराधियों द्वारा बनाया हुआ एक खतरनाक कंप्यूटर सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है जो दूसरे Users को परेशान करने और उनकी सिस्टम्स को खराब करने के उद्देश्य से बनाया जाता है।

6. Phishing–  साइबर हमले का एक अन्य प्रकार फिशिंग है। इसमें साइबर अपराधी यूजर को Fake Email या Fake SMS के जरिये एक फर्जी लिंक भेज कर यूजर की पर्सनल डिटेल्स को चुराया लेता है जैसे Login ID और Password, Credit Card / Debit Card की डिटेल्स आदि।

7. Child Pornography and Abuse– इस प्रकार के Cyber Crime में हैकर ज्यादातर खुद के पहचान को छुपा कर शिष्टाचार के साथ बात करते हैं। 

छोटे बच्चो या अवयस्क लोगों को ज्यादा जानकारी ना होने के कारण धीरे धीरे हैकर बच्चों को Child Pornography के लिए मजबूर करते हैं। 

8. Man-in-the-middle attack- कोई दो लोगों के कम्युनिकेशन के समय साइबर अपराधी नेटवर्क के साथ छेड़छाड़ करके कम्युनिकेशन का एक्सेस ले लेते है और उसे कम्युनिकेशन करते हैं। इस साइबर हमले से अटैकर्स Users के मध्य चल रहे कम्युनिकेशन को एक्सेस कर लेते है जिसकी user को कोई जानकारी नहीं होती है। 

9. Denial of Service Attack- इस प्रकार के साइबर हमले में साइबर अपराधियों द्वारा किसी user या संस्था के सिस्टम और नेटवर्क को कार्य करने से रोका जाता है। इस हमले से हैकर्स सिस्टम को अनुपयोगी भी बना सकते है और किसी संगठन या किसी व्यक्ति के महत्वपूर्ण कार्यों को रोक सकते है। 

10. Zero-Day- साइबर हमले का एक और प्रकार है zero-day,जिसमे किसी सिस्टम के सॉफ्टवेयर में Loopholes को ढूंढ कर उन्हें निशाना बनाया जाता है और उस सॉफ्टवेयर के साथ छेड़छाड़ की जाती है। 

11. Spoofing- इस प्रकार के Cyber Attack में Hacker किसी की पहचान(Identity) का इस्तेमाल कर के किसी बड़े Server या बड़ी कंपनी के सिस्टम में अटैक कर सकता है। 

12. Salami Slicing Attack– ऐसे Cyber Crime में साइबर अपराधी बहुत सारे छोटे-छोटे अटैक करता है और फिर एक बड़े अटैक को अंजाम देता है। इसको “सलामी धोखाधड़ी” भी कहते हैं। 

13. SQL (structured query language) 

इसमे साइबर अपराधी user के  data  को database से चुरा कर नियंत्रित करता है। अपराधी कुछ विद्वेषपूर्ण SQL queries और code के माध्यम से user के database तक पहुँच कर उसे चुरा लेते है तथा नियंत्रित करते है। 

Cyber Security कैसे काम करता है ? 

Cyber Security में एक बड़ी टीम Ethical Hackers की होती है जो Data चोरी होने, Data Delete होने या किसी भी Device को नुकसान होने से बचाती है। इसके जरिये आपके Network, Computer System, Program और आपके Data को Secure रखा जाता है। 

साइबर हमले से खुद को कैसे बचाएं ?

साइबर हमलों से बचने के लिये स्वयं को aware और updated रखना होगा। इसके लिये नीचे लिखी बातों को ध्यान में रखना बहुत जरूरी है। 

  • मजबूत पासवर्ड का उपयोग करें। 
  • एंटी वायरस सॉफ्टवेयर का इस्तेमाल करें। 
  • सॉफ्टवेयर और ऑपरेटिंग सिस्टम को अपडेट करें। 
  • अज्ञात Email attachment को न खोलें। 
  • अज्ञात Email में link पर क्लिक न करें। 
  • असुरक्षित WIFI नेटवर्क का इस्तेमाल ना करें। 

साइबर सिक्योरिटी क्यों जरुरी है?

दोस्तों आज के इस कंप्यूटर और इंटरनेट के युग में काफी ज्यादा मात्रा में लोग इंटरनेट का इस्तेमाल करते हैं। इंटरनेट पूरी तरीके से सुरक्षित नहीं है। User की एक लापरवाही से उसकी निजी जानकारी और डाटा खतरे में पड़ सकती है। 

निम्नलिखित खतरों से बचने के लिए साइबर सिक्योरिटी जरूरी है –

  1. निजी data जैसे कि image, Pdf, Text Document या अन्य किसी भी प्रकार के Data जो कंप्यूटर में रहता है उसको सुरक्षित रखने के लिए Cyber Security जरुरी है। 
  2. आपका ऐसा कोई भी Data जिसमे सिर्फ आप ही का Copyright होता है उसे सुरक्षित रखने के लिए Cyber Security बहुत जरुरी है। 
  3. Banking और Financial data को सुरक्षा प्रदान करने के लिए भी Cyber Security बहुत जरुरी है। 
  4. आजकल हमारे देश के Defense System में भी साइबर अटैक होते हैं। इसलिए National Security के लिए भी Cyber Security in Hindi बहुत जरुरी है।
  5. आजकल सरकारी दफ्तरों में भी ज्यादातर काम इन्टरनेट के द्वारा ही किया जाता है। यहाँ पर कुछ ऐसे data या information भी होते हैं जो बहुत आवश्यक और confidential होते हैं, इस प्रकार की data को सुरक्षित रखने के लिए भी Cyber Security बहुत जरुरी है। 

Cyber Security के फायदे

  • इसकी सहायता से आप Unauthorized Access से सुरक्षित रह सकते हैं जिससे किसी भी प्रकार के data loss का खतरा नहीं रहेगा।
  • साइबर सुरक्षा के द्वारा आपके पर्सनल और confidential data को एक सुरक्षा कवच प्रदान किया जाता है।
  • Cyber Security की सहायता से आप निश्चिन्त हो कर इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते हैं ।
  • आजकल ऑनलाइन कैश Transaction का बहुत प्रचलन है। साइबर सुरक्षा के द्वारा सुरक्षित transaction कर सकते हैं। 

FAQ:

Q. क्या साइबर सेक्योरइटी हमारे लिए important है?

Ans: जी हां, साइबर सेक्योरइटी हमारे लिए बेहद important है क्योंकि ये इन्टरनेट से चोरी होने वाले हमारे पर्सनल data को बचाता है।

Q. हमे कैसे पता चलेगा कि हमारा कंप्यूटर hack हो गया है?

Ans: यदि आपका कंप्यूटर स्लो work कर रहा हैै, आपने कोई unknown e-mail attachment खोला हो या link क्लिक किया हो तो यकीनन आपका कंप्यूटर हैक हो गया है।

यह भी पढ़े:

निष्कर्श

दोस्तों Cyber Security(Cyber Security in Hindi) एक तरह की इंटरनेट सिक्योरिटी भी है, जो आपको मैलवेयर, ब्लैक हैट हैकर्स या किसी अन्य तरह के साइबर हमलों से बचाती है। यदि आप इंटरनेट का इस्तेमाल बैंकिंग गतिविधियों के लिए करते हैं, तो आपको अपने डिवाइस में साइबर सिक्योरिटी को ध्यान में रखते हुए Antivirus को जरूर इंस्टॉल करना चाहिए।

बीते कुछ सालों में साइबर फ्रॉड का नेटवर्क काफी बड़ा हुआ है। यही वजह है कि साइबर ठगी से जुड़ी घटनाओं में रोजाना वृद्धि देखने को मिल रही है। 

इसलिए हम सबको जागरूक और सावधान हो जाने की जरूरत है क्योंकि थोड़ी सी लापरवाही एक बड़े नुकसान की वजह बन सकती है। हम लोगों की सजगता और सतर्कता ही हमारी सुरक्षा की पहली गारंटी है।

nv-author-image

Suraj Debnath

असम के निवासी सूरज देबनाथ इस ब्लॉग के संस्थापक है। इन्होने विज्ञान शाखा में स्नातक किया हुआ है। इन्हें शेयर मार्किट, टेक्नोलॉजी, ब्लोगिंग ,पैसे कमाए जैसे विषयों का काफी अनुभव है और इन विषयों पर आर्टिकल लिखते आये है। Join Him On Instagram- Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.