[Full Form] DBMS क्या है? डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली के बारे में सारी जानकारी||

What is dbms in hindi-DBMS क्या है, कैसे काम करते है और इसके full form क्या हैं?

DBMS in Hindi

DBMS के बारे में जानना आजके समय में बहुत आवश्यक हैं। यु तो एक प्रोग्रामर को DBMS को शिखना जरुरी होता हैं।लेकिन आप अगर प्रोग्रामर नहीं बनना चाहते हो फिर भी इसके बारे में जानना चाहिए।

इन्टनेट पर आप आए दिन वेबसाइट ,application से connect होते हो , एइसे में आपके मन में यह सवाल जरुर आते हैं कि यह डेटा आखिर आते कहा से हैं।

कौन लाते है?

यह बात शयेद जानते होंगे कि वेबसाइट ,application में डेटा server या डेटाबेस से आते हैं।लेकिन कैसे आते हैं , यह बात से अनजान होंगे। डेटाबेस से डेटा को लाने में अहम भूमिका निभाते हैं DBMS।

DBMS एक तरह के software होते हैं , जो कि user डेटाबेस को connect करते हैं। यह DBMS के मदत से ही आप किसी भी application , website कि डेटा देख सकते हो।

What is DBMS , DBMS kaam kaise kkarte hain ,DBMS ki advantage disadvantage , Types of DBMS , Structure आदि सभी concept को बारीकी से समझने वाला हूँ । अगर जानना चाहते हो तो आपसे निवेदन हैं पोस्ट को अंतिम तक ध्यान से जरुर पड़े ।

DBMS Full form (DBMS के पूरा नाम )

DBMS full form हैं Database Management System | DBMS full form in hindi डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली। डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली एक एइसा प्रणाली होते हैं जिसके जड़िये database को manage किया जाता हैं।

DBMS in Hindi (Database management system in Hindi )

DBMS यानि database management system। जिसे हिंदी में डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली के नाम से जाना जाता हैं। इसके नाम से पता चल रहा हैं कि , यह एक एइसा system हैं , जिससे डेटाबेस को manage किया जाता हैं। Database को manage करने के लिए बनाया गया programe या software हैं DBMS . इसके concept को समझने से पहले हम database kya hain , यह जान लेते हैं।

Database एक एइसा place हैं जहा पर डेटा यानि information को store किया जाता हैं। डेटाबेस डेटा को systematicly organize करते हैं। एक website , application कि सारी डेटा database में ही table बनाकर store किया जाता हैं।

DBMS in Hindi

Database में डेटा को स्टोर , manage किया जाता हैं DBMS के जड़िये। DBMS एक software होते हैं जहा पर QUERY के जड़िये database में डेटा को insert ,edit, delete , Update जैसे task perform किया जाता हैं। जरूरत पड़ने पर उन डेटा को user द्वारा access भी किया जा सकता हैं।

यह एक interface provide करते हैं , जिसके help से database को handle कर सकते हैं। जरुरत पड़ने पर application के मदत से डाटा को acces कर सकते हैं। चलिए एक उदाहरन से इसे ओर अच्छी तरह से समझते हैं –

आप फेसबुक पर अकाउंट create करते वक़्त अपनी information देते हो। यह informationi यानि कि डेटा DBMS के द्वारा database में store किया जाता हैं। और इन डेटा को facebook application से access कर सकते हो ।

उम्मीद हैं दोस्तों,What is DBMS आप समझ गए होंगे। तो चलिए इससे जुड़ी ओर टॉपिक को जानते हैं।

  • यह भी पड़े
C++ क्या हैं जाने पूरी बाते हिंदी में
Fau-G के बारे में पुरे जानकारी हिंदी में

डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली कैसे काम करते हैं

जैसे कि आप जान गए होंगे DBMS एक प्रग्राम होते हैं जिसके द्वारा डेटाबेस में डेटा को मैनेज , क्रिएट , मॉडिफाई , manupulation किया जा सकता हैं। DBMS के जड़िये डेटा को मैनेज करने के लिए instruction चलाये जाते। ये instruction डेटाबेस में interupt करते हैं और फलसरूप रिजल्ट देखने को मिलते हैं।

डेटाबेस को मैनेज करने के लिए कोई तरह के instruction होते हैं , जैसे कि डेटा insert के लिए insert instruction, अपडेट के लिए update instruction और इन्ही instruction से डेटा को मैनेज किया जाता हैं।

DBMS के विशेषताए ( Chractertics of DBMS )

डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली के विशेषताए निन्मलिखित हैं –

  1. डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली से डेटा Redundancy को control कर सकते हैं।
  2. DBMS पर डेटा secrurity पर पूरा ध्यान दिया जाता हैं। जो की इसके एक बड़ी विशेषता हैं ।
  3. डेटा को शेयर किया जा सकता हैं ।
  4. डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली में Data consistency को रोका जा सकता हैं।
  5. डेटा independence होते हैं।
  6. डेटा को Intergration किया जा सकता हैं।
  7. DBMS कि प्रोसेसिंग गति अच्छी होती हैं।
  8. डेटा को restore , brackup लिया जा सकता हैं।
  9. जिनको डेटा मैनेज की permission हैं , वही डेटाबेस को मैनेज कर सकते हैं ।

DBMS कि सुविधा (Advantage of DBMS )

1.Data Redundancy (डेटा फालतूपन ) : file system में हर application के अपनी ही file होते हैं और एइसे में कोई स्तानो पर डेटा की duplicate होने की संवाभना होते हैं । डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली के जड़िये एक ही स्तनों पर एक तरह के ही file को रखा जाता हैं जिससे डेटा duplicate होने की संवाभना कम होते हैं। यह Data Redundancy को कम करते हैं।

2.Sharing of Data(डेटा साझा करना) : DBMS को control authorized user द्वारा ही किया जा सकता हैं | Autorized user सुनिच्चित कर सकते हैं कि उपयोगिता को कितने access दिया जायेगा ।

3.Data Consistency (डेटा संगतता) : डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली एक ही तरह के डाटा को बार बार जमा होने से रोकते हैं। जिससे duplicate डेटा जमा होने के problem नही होते हैं ।

4.Intergration of Data (डेटा का एकीकरण…) : DBMS में डेटा को टेबल आकार में संग्रहित किया जाता हैं । एक डेटाबेस में एक से ज्यादा टेबल होते हैं और सबके बिच में संबंध बनाया जा सकता हैं। जिससे डेटा को वापस पाप्त , अपडेट करने में easy रहते हैं।

5.Data Security (डाटा सुरक्षा) : डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली कि access सिर्फ Administar user को ही दिया जाता हैं , जिससे हर कोई डेटाबेस को मैनेज नही कर सकते और डेटा सुरक्षित रहते हैं। एक Administar ही difine कर पाते हैं कि उपयोगिता को कितने डेटा को दिखाए जाये । इससे डेटा गलत में हाथ में जाने से रोका जाता हैं।

6.Remove Procedures (प्रक्रियाओं को निकालें) : आप सब जानते हैं कि अगर कंप्यूटर(कंप्यूटर क्या है) या अन्न एल्क्ट्रोनिक सिस्टम पर डेटा रखा जाये तो कंप्यूटर या hardrive खराब होने से डेटा loss होने के chances रहते हैं लेकिन DBMS में एइसे condition में भी डेटा को restore कर पाओगे ।

DBMS कि नुकसान (Disadvantage of DBMS )

1.Cost of implementation(कार्यान्वयन की लागत): डेटाबेस प्रबन्धन प्रणाली को implementation करने पर लागत ज्यादा आ सकते हैं । जिससे खर्च भी ज्यादा हो सकते हैं।

2.Risk of Database fail ( डेटाबेस विफल होने की रिस्क ) : Sometime डेटाबेस में error देखने को मिलता हैं , जिससे कुछ समय के लिए डेटा fail हो सकते हैं | जिससे company को नुकसान उठाना पड़ सकता हैं ।

3.Effort of Transfer Data (स्थानांतरण डेटा का प्रयास) : Database को transfer करते वक़्त काफी मुस्किलो के सामना करना पड़ सकता हैं और इसमें ज्यादा समय भी लग सकता हैं ।

DBMS के प्रकार (Types of DBMS )

1.Relational database : इस प्रकार की डेटाबेस में टेबल में डेटा होते हैं , row colum के रूप में डाटा को रखा जाता हैं । इसे structual डेटाबेस भी कहा जाता हैं।

2. Network database : एइसे डेटाबेस में डेटा को रिकॉर्ड बनाकर रखा जाता हैं और डेटा के बिच लिंक रहते हैं ।

3. Hierarchical database : इस तरह के डेटाबेस में डेटा को parent-child के रूप में दिखाया जाता हैं और यह त्रि stucture में होते हैं ।

4. Object-Oriented Database : Object-Oriented Database object oreinted programming के प्रिंसिपल को फोल्लो करते हैं । ये डेटा को object और class के रूप में represent करते हैं ।

Components of DBMS (डीबीएमएस के घटक)

  • Table : DBMS में सारी डेटा टेबल के अंदर ही में रखे जाते हैं। एक टेबल row-colum मिलकर बनते हैं।
  • Filed : टेबल के अन्दर colum को filed कहा जाता हैं । अगर स्कूल के रजिस्टर की बात करे तो उनमे रोल नंबर, नाम , फ़ोन नंबर को एक एक colum में रखा जायेगा और उसे हम फील्ड कह सकते हैं ।
  • Record : टेबल के अन्दर डेटा को रिकॉर्ड के रूप में रखा जाता हैं। जैसे व्यक्ति के नाम . फ़ोन नंबर etc ..
  • Query : किसी टेबल में से जरुरी हिचाप से डेटा निकलने के लिए query की अवश्यक होते हैं। जैसे आप सिर्फ 14 years age की student के लिस्ट निकलते वक़्त query लगाकर निकल सकते हो।
  • Forms : किसी भी user द्वारा डेटा को इनपुट करते वक़्त form के काम आते हैं । जैसे फेसबुक अकाउंट क्रिएट करते वक़्त आप form के जड़ीये अपना information डेटाबेस में insert करते हो ।
  • Report : आप डेटाबेस के रिकॉर्ड कागज में प्रिंट करे तो उसे Report कहते हैं ।

Structure of DBMS (डी बी एम् एस के संरचना)

  • DDL (Data Definition Language) Compiler
  • DML Compiler and Query Optimizer
  • Data Manager
  • Data Dictionary
  • Data Files

Functions of DBMS(What is DBMS in Hindi)

  • Insert Data : DBMS द्वारा डेटाबेस में डेटा को insert कराया जाता हैं ।
  • Manage data :इसमें डेटा को मैनेज किया जाता है ताकि आसानी से एक्सेस कर पाए ।
  • Update data : ज़रूरत के हिचाप से dbms द्वारा डेटा को update किया जाता हैं ।
  • Delete data : आवश्यक पड़ने पर इससे डेटा को डिलीट भी किया जा सकता हैं ।
  • Recover data : जरुरत पड़ने पर डेटा को रिकवर भी किया जा सकता हैं।

Application of DBMS (DBMS के अनुप्रोयोग )

आज के टाइम लगभग हर website apk में dbms के प्रोयोग लाजमी हो गए हैं। कुछ हम बड़े बड़े system के बारे में niche बताया हूँ –

  1. बैंकिंग सिस्टम में : हर एक तरह बैंक वेबसाइट application में dbms के अनुप्रोयोग किया जाता हैं ।
  2. स्कूल , कॉलेज क्षेत्र में : स्कूल , कॉलेज क्षेत्र में dbms के प्रोयोग होते हैं। Students , teacher आदि रिकॉर्ड डेटाबेस में स्टोर करने के लिए dbms के use करते हैं ।
  3. सोशल मीडिया साईट में : सोशल साईट में ग्राहोको के डेटा लेने के लिए dbms के use किया जाता हैं। जैसे कि फेसबुक,whatsapp……
  4. सरकारी साईट में : सरकारी साईट में भी dbms के प्रोयोग होते हैं । जैसे कि आप किसी भी तरह के जॉब अप्लाई करते वक़्त आपसे फॉर्म भरा जाता हैं और आपसे डेटा कलेक्ट किया जाता हैं ।
  5. इंडस्ट्री साईट में : इंडस्ट्री साईट में भी dbms के use होते हैं | जैसे कि सामग्री के हिचाप , employe के हिचाप रखे जाते हैं।
  6. शोपिंग साईट में : सोपिंग साईट भी एक बड़े मात्र में ग्राहोको से डेटा एकत्रित करते हैं और अपने डेटाबेस में स्टोर कर लेते हैं और इसमें भी dbms के प्रोयोग होते हैं ।
  7. टेलिकॉम कंपनी में : टेलिकॉम कंपनी भी ग्राहोको के डेटा dbms में स्टोर रखते है और यह dbms के जड़िये ही होते हैं ।

DBMS software कौन-कौन से हैं

कुछ पॉप्युलेट dbms software के नाम niche बतया गया हैं

  • MySQL
  • Microsoft SQL Server
  • SQLite
  • Oracle
  • dBASE
  • Microsoft Access
  • IBM DB2
  • PostgreSQL
  • Foxpro
  • MariaDB
  • NoSQL

Conclusion: What is DBMS in Hindi

DBMS in Hindi यानि कि database management system in Hindi पोस्ट में हमने शिखा DBMS क्या हैं, DBMS Kaise काम करते हैं, advantage DBMS, the disadvantage of DBMS, application of database management system, some popular DBMS software …

उम्मीद हैं दोस्तों ऊपर दिए गए जानकारी आपको पसंद आये होंगे। पोस्ट को लेकर अगर आपके कोई राय हो तो comment पर लिखे , आगे भी इस तरह के जानकारी पाना चाहते हो हमारे साथ बने रहे।

हिंदी में सीखे blog पर विजिट करने के लिए हम आपके आभारी हूँ ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *