ग्रेजुएशन(Graduation) क्या है | ग्रेजुएशन के बाद क्या करे?

हमारे भारतवर्ष में बहुत से ऐसे छात्र है जोकि इंटरनेट पर ऐसे बहुत से प्रश्नों के जवाब ढूंढने की कोशिश करते हैं कि 12वीं पास होने के बाद क्या करें, 12वीं पास करने के बाद किस क्षेत्र में पढ़ाई करें जिससे उन्हें अच्छी नौकरी प्राप्त हो सके। ऐसे ही छात्रों के विपरीत कुछ छात्र ऐसे होते हैं, जिन्होंने पहले से ही यह सोच रखा होता है, कि वह आगे क्या करना चाहते हैं। कोई डॉक्टर बनना चाहता है, तो कोई इंजीनियर बनना चाहता है और बहुत से छात्रा ऐसे होते हैं, जो कि ग्रेजुएशन पूरा करके एक सरकारी अध्यापक बनना चाहते हैं।

आज आप सभी लोगों को इस लेख में जानने को मिलेगा, कि ग्रेजुएशन क्या है? ग्रेजुएशन कब करें? ग्रेजुएशन का क्या मतलब होता है? ग्रेजुएशन के बाद क्या करें और सबसे महत्वपूर्ण बात सरकारी अध्यापक कैसे बने (how to become a government teacher) इत्यादि। यदि आप अभी ग्रेजुएशन कंप्लीट करके एक सरकारी अध्यापक बनना चाहते हैं, तो यह लेख आपके लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होने वाला है। चलिए बिना किसी देर किए शुरू करते हैं, अपना यह महत्वपूर्ण लेख।

ग्रेजुएशन क्या है?

Graduation kya hai

इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद जो 3 वर्षों की बैचलर कोर्स डिग्री होती है, इसी कोर्स डिग्री को ग्रेजुएशन या अंडर ग्रेजुएशन कहा जाता है। ग्रेजुएशन की पढ़ाई में अलग-अलग क्षेत्रों को चुना जा सकता है। भारत में ऐसे बहुत से कॉलेजेस और यूनिवर्सिटीज हैं जहां पर ग्रेजुएशन की शिक्षा प्रदान की जाती है। इच्छुक छात्र छात्राओं को ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त कराने के लिए भारत में अलग-अलग स्थानों पर ग्रेजुएशन विद्यालय मौजूद हैं।

बहुत से ऐसे सरकारी विद्यालय भी हैं, जिनके माध्यम से आप ग्रेजुएशन की डिग्री प्राप्त कर सकते हैं। आपके पास भेज वेशन की डिग्री होती है, तो आप लगभग सभी सरकारी जॉब के लिए आवेदन कर सकते हैं। ग्रेजुएशन का कोर्स लगभग 3 वर्षों का होता है, इन 3 वर्षों में आपको आप के चुने गए सब्जेक्ट के अनुसार शिक्षा प्रदान कराई जाती है। यदि आप इच्छुक हैं, तो आप ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद पोस्ट ग्रेजुएशन भी कर सकते हैं, आप ग्रेजुएशन के बाद ही किसी भी सरकारी जॉब के लिए तैयारी भी कर सकते हैं।

ग्रेजुएशन के लिए भारत के सबसे अच्छे कॉलेज ! जानने के लिए आर्टिकल को पढ़ें ।

ग्रेजुएशन का क्या मतलब होता है?

जब कोई छात्र अपनी इंटरमीडिएट की परीक्षा पूरी करके 3 वर्षीय शिक्षा बैचलर के कोर्स को करता है, तो इसी कोर्स को ग्रेजुएशन कहा जाता है और जो व्यक्ति इस कोर्स को अच्छे तरीके से पूरा कर लेता है, तो उसे ग्रेजुएट कहा जाता है। बैचलर डिग्री प्राप्त होने के बाद छात्र छात्राओं को ग्रेजुएटेड पर्सन कहा जाता है। 

ग्रेजुएशन को कितने भागों में बांटा गया है?

हमारे भारतवर्ष में ऐसे बहुत से विद्यालय हैं, जहां पर ग्रेजुएशन की शिक्षा प्रदान कराई जाती है। यदि आप किसी भी सरकारी कॉलेज से ग्रेजुएशन की शिक्षा प्राप्त करते हैं, तो आप बहुत ही कम पैसों में इस डिग्री को प्राप्त कर सकते हैं, और यदि आप किसी प्राइवेट कॉलेज से ग्रेजुएशन प्राप्त करते हैं, तो आपको ज्यादा फीस देनी पड़ती है। ग्रेजुएशन को विषयों के आधार पर अनेकों भागो में बांटा गया है;

  1. Bachelor of science
  2. Bachelor of art
  3. Bachelor of commerce
  4. Bachelor of technic
  5. Bachelor of computer application
  6. Bachelor of science work
  7. Bachelor of business administration
  8. Bachelor of mass media
  9. Bachelor of fine art
  10. Bachelor of homeopathic medicine
  11. Bachelor of education

ग्रेजुएशन करने के लिए योग्यताएं क्या होनी चाहिए?

यदि कोई भी छात्र छात्रा ग्रेजुएशन कंप्लीट करना चाहता है, तो उस की शैक्षणिक योग्यता इंटरमीडिएट तक की होनी चाहिए। कोई भी छात्र छात्रा 12वीं पास करने के बाद एक या दो वर्षों के अंतराल के बाद भी ग्रेजुएशन कर सकता है। यदि कोई भी छात्र छात्रा इंटरमीडिएट पास करने के बाद ग्रेजुएशन करना चाहता है, तो उस छात्र छात्रा के इंटरमीडिएट में न्युनतम 50 से 55% मार्क्स का होना अति आवश्यक है। यदि आपका मार्क्स इंटरमीडिएट की परीक्षा में न्यूनतम 50 से 55% है, तो आप ग्रेजुएशन करने के लिए योग्य माने जाएंगे।

अन्य आर्टिकल पढ़ें :

ग्रेजुएशन कब करें?

जब हमें किसी भी सरकारी जॉब को प्राप्त करने की आवश्यकता होती है, तो हम से ग्रेजुएशन की डिग्री मांगी जाती है, ऐसे में हमें ग्रेजुएशन तभी करना चाहिए, जब हमें कोई सरकारी जॉब प्राप्त करनी हो। हालांकि ग्रेजुएशन सबसे महत्वपूर्ण शैक्षणिक योग्यता है, परंतु बहुत से संस्थान ऐसे भी हैं, जिनमें आप केवल 12वीं पास करने के बाद भी आवेदन कर सकते हैं, जैसे कि इंडियन आर्मी इंडियन नेवी।

ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद क्या करें?

यदि कोई छात्र छात्रा ग्रेजुएशन को पूरा कर चुका है और वह आगे की पढ़ाई के लिए अग्रसर होना चाहता है और एक अच्छा जॉब प्राप्त करना चाहता है, तो हमारी सलाह यही होगी, कि उसे पोस्ट ग्रेजुएशन करना चाहिए और सरकारी अध्यापक के लिए आवेदन भी करना चाहिए। यदि आप एक सरकारी अध्यापक बनना चाहते हैं, तो आपको उस विषय के बारे में बहुत ही विस्तार पूर्वक जानकारी होनी चाहिए, जिस विषय के आप अध्यापक बनना चाहते हैं। 

मान लीजिए यदि आप विज्ञान के अध्यापक बनना चाहते हैं, तो आपको विज्ञान से संबंधित सभी जानकारियों का ज्ञान होना अति आवश्यक है। यदि आप गणित के अध्यापक बनना चाहते हैं, तो आपको गणित विषय में दक्ष होना चाहिए। जब आप अध्यापक बनने के लिए आवेदन करते हैं, तो आपसे यह सभी योग्यताएं पूछी जाती हैं। बहुत से ऐसे विद्यालय हैं, जहां पर छात्र-छात्राओं को सरकारी अध्यापक बनने के लिए शिक्षा प्राप्त की जाती है और शिक्षा पूर्ण होने के बाद सरकारी विद्यालयों में ही ट्रेनिंग के लिए भेज दिए जाते हैं। यदि छात्र छात्रा ट्रेनिंग में पास हो जाते हैं, तो इन्हें एक सर्टिफिकेट दिया जाता है। इस सर्टिफिकेट के माध्यम से यह छात्र छात्रा अध्यापक बनने के योग्य माने जाते हैं।

ग्रेजुएशन करने के क्या फायदे हैं?

  • यदि आप ग्रेजुएशन पूरा कर लिए हैं, तो यह आपके लिए काफी अच्छी अपॉर्चुनिटी है, क्योंकि वर्तमान समय में कंपटीशन इतना बढ़ गया है, कि किसी भी सरकारी जॉब को प्राप्त करने के लिए आपको शिक्षित होना चाहिए।
  • किसी भी सरकारी क्षेत्र में उन्हीं छात्र छात्राओं को प्राथमिकता दी जाती है, जो कि ग्रेजुएट होते हैं। अतः यदि आप ग्रेजुएशन पूरा करते हैं, तो आपको किसी भी सरकारी क्षेत्र में प्राथमिकता प्राप्त हो जाती है।
  • कुछ ही वर्षों के पहले उन छात्र-छात्राओं को भी प्राथमिकता दी जाती थी, जो कि इंटरमीडिएट उत्तीर्ण होते थे, परंतु कंपटीशन के इस दौर में उन छात्र-छात्राओं को प्राथमिकता दी जा रही है, जो कि ग्रेजुएटेड हो।
  • यदि आप ग्रेजुएशन कर चुके हैं, तो आपके लिए इंटरमीडिएट उत्तीर्ण छात्र-छात्राओं के मुकाबले सरकारी जॉब के और भी अधिक विकल्प प्राप्त हो जाते हैं।

FAQ:-

ग्रेजुएशन किसे कहा जाता है?

इंटरमीडिएट की परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद जो 3 वर्षों का बैचलर कोर्स किया जाता है, उसे ही ग्रेजुएशन कहा जाता है।

ग्रेजुएशन प्राप्त करने के कौन-कौन से लाभ हैं?

इसके लिए आप इस लेख को अंत तक अवश्य पढ़ें।

ग्रेजुएशन कंप्लीट करने के बाद हमारे पास सबसे अच्छा विकल्प कौन सा होता है?

सरकारी अध्यापक बनने का।

ग्रेजुएशन करने के लिए कौन-कौन सी योग्यताएं होनी चाहिए?

इंटरमीडिएट उत्तीर्ण होना चाहिए, न्यूनतम 50-55% मार्क्स के साथ।

ग्रेजुएशन को कितने भागों में बांटा गया है?

विषयों के आधार पर ग्रेजुएशन को अनेकों भागों में बांटा गया है, जिनकी जानकारी ऊपर दी गई है।

निष्कर्ष :-

हम उम्मीद करते हैं, कि आपको हमारे द्वारा लिखा गया यह लेख Graduation kya hai अवश्य ही पसंद आया होगा। यदि आपको हमारे द्वारा लिखे गए इस लेख से जानकारियां प्राप्त हुई हो, तो आप कृपया इसे अवश्य शेयर करें, यदि आपके मन में इस लेख को लेकर किसी भी प्रकार का सवाल है, तो कमेंट बॉक्स में हमें अवश्य बताएं।

2 thoughts on “ग्रेजुएशन(Graduation) क्या है | ग्रेजुएशन के बाद क्या करे?”

  1. Pingback: भारत के 10 सबसे अच्छे कॉलेज | Top 10 college in india

  2. Pingback: Post Graduation क्या है? पोस्ट ग्रेजुएशन के बाद जॉब

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *