Skip to content

मानव शरीर के अंगों के नाम और उनके कार्य | Human Body Parts Name in Hindi

मानव शरीर के अंगों के नाम , उनके कार्य, Sense Organs और उनके कार्य (Human Body Parts Name in Hindi & English)

ईश्वर ने हम सभी को एक शरीर प्रदान किया है और हमारे लिये इस शरीर संबंधित सभी हिस्सों का ज्ञान होना अत्यंत आवश्यक है। विशेषकर बच्चों को मानव शरीर के सभी भागों के बारे में पता होना चाहिए।

दोस्तों, आज हम आपको मानव शरीर के अंगों के नामों के बारे में बतायेंगे कि हमारे शरीर के अंगों को किस नाम से जाना जाता है (names of body parts) और उनका हमारे शरीर में क्या काम होता है।

मानव शरीर विभिन्न अंगो से मिलकर बना है। ये सभी महत्वपूर्ण अंग मनुष्य के जीवन में अलग-अलग रूप में एक विशेष प्रकार की भूमिका निभाते हैं। आज इस लेख में हम names of body parts in hindi के बारे में जानकारी देंगे।

हमारे शरीर के सभी अंग महत्वपूर्ण कार्य करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि हमारे पास पैर नहीं हैं, तो हम कैसे चलेंगे? जब मुँह नहीं होगा तो हम पानी कैसे पिएंगे? खाना कैसे खायेंगे? इसी तरह जब नाक ही नहीं होगी तो हम साँस कैसे लेंगे?

सुबह सोकर उठने से लेकर रात को सोते समय तक हम अपने शरीर के सभी हिस्सों का अलग-अलग तरीकों से उपयोग करते हैं। सुबह उठते ही जब हम अपनी आँखें खोलते हैं और जब सूरज की किरणें हमारी आँखों पर पड़ती हैं तब हमें एहसास होता है कि यह सुबह है। इसी तरह जब हम कुछ सुनते हैं तो हम इसके लिए अपने कानों का उपयोग करते हैं।

इसी तरह हम अपने दैनिक जीवन में शरीर के भिन्न – भिन्न भागों का उपयोग विभिन्न कार्यों में करते हैं।

मानव शरीर अनेक अंगों से जुड़कर तैयार होता है। इन अंगों को दो भागों में divide किया गया है। पहला बाहरी अंग (external part), जिसे देखा जा सकता है और दूसरा आंतरिक अंग (internal part) जिसे हम देख नही सकते हैं, परन्तु हमारे शरीर के अंदर होते हैं।

Human Body Parts Name in Hindi & English

body parts name in hindi
EnglishHindi
Eyebrowभौं
Eyesआँखे
Tongueजीभ
Mouthमुँह
Lipsहोंठ
Noseनाक
Cheekगाल
Earकान
Teethदाँत
Neckगर्दन
Hairबाल
Faceचेहरा
Headसिर
Foreheadमाथा
Brainमस्तिष्क
Eyelidपलक
Shoulderकन्धा
Backपीठ
Waistकमर
Stomachपेट
Throatगला
Legटाँग
Skinत्वचा
Kneeघुटना
Footपैर
Handहाथ
Beardदाढ़ी
Skullखोपड़ी
Mustacheमूँछ
Wristकलाई
Larynxकंठ
Fingersउँगली
Thumbअंगूठा
Little Finger    छोटी उँगली
Ring Finger    अनामिका
Index Fingerतर्जनी
Middle fingerबीच की उँगली
Soleतलवा
Palmहथेली
Palateतालू
Nailनाख़ून
Boneहड्डी
Bellyपेट
Calfपिंडली
Hipकुल्हा
Bloodरक्त
Fistमुट्ठी
Nerveनस
Navelनाभी
Elbowकोहनी
Breastस्तन
Nippleस्तन का अगला भाग
Salivaलार
Heartहृदय
Uterusगर्भाशय
Toeपैर के उंगली
Thighजांघ
Chestछाती
Jawजबड़ा
Spineरीढ़
Templeकनपटी
Spleenतिल्ली
Bodyशरीर
Arteryधमनी
Pawपंजा
Ribपसली
Nostrilनथुना
Pulseनाड़ी
Tracheaस्वास नली
Muscles मांसपेशी
Molar teethदाढ़
Lungफेफड़ा
Liverजिगर
Kidneyगुर्दा
Jointजोड़
Armभुजा
Intestineआँत
Small intestineछोटी आँत
Large intestineबड़ी आँत
Heelएड़ी
Eyelashबरौनी
Eyeballनेत्र गोलक
Embryoभ्रूण
Armpitबगल
Ankleटखना
Chinठुड्डी
Eardrumकान का पर्दा
Trunkधड़
Wombकोख
Buttचूतड़
Lapगोद
Penisलिंग
Vaginaयोनि
Anusगुदा
Smiley Faceहंसमुख चेहरा
Pawपंजा
Ribपसली
Bileपित्त
Spleenतिल्ली
Urinary Bladderमूत्राशय

मानव शरीर के आंतरिक अंगों के नाम:

Thyroidथाइरोइड
Thymusबाल्यग्रन्थि
Liverजिगर
Stomachआमाशय
Pancreas  अग्न्याशय
Intestineआँत
Large intestineबड़ी आँत
Small intestineछोटी आँत
Lungफेफड़ा
Heartहृदय, दिल
Kidneyगुर्दा
Bladderमूत्राशय
Reproductive Systemप्रजनन अंग
Brainदिमाग

Name of Sense Organs:

मानव शरीर में कुछ अंग ऐसे होते हैं जो हमारे शरीर को अलग-अलग प्रकार की जानकारी atmosphere  से ग्रहण  करके देते हैं। 

हमारे शरीर में ये 5 sense organs  है –

 आँख, नाक, कान, त्वचा और जीभ

प्रत्येक अंग किसी एक प्रमुख कार्य के लिए होते हैं।

1. स्किन (SKIN)- यहस्पर्शग्रही अंग है। त्वचा को स्पर्श इन्द्रिय या सपर्श ग्राही भी कहा जाता है। स्पर्श करके या छू करके हम वस्तुओं के आकार-प्रकार, कठोरता-कोमलता  को feel  कर पाते हैं।

2. नेत्र (EYES)-  यह प्रकाशग्राही अंग है और आँख एक important अंग हैं, जिसके द्वारा हम वस्तुओं को देख पाते हैं।

3. नासिका (NOSE) – यह घ्राणग्राही अंग है। हमारे आस – पास के वातावरण में फैले कोई भी गंध (खुशबू या फिर बदबू) का पता हमें नाक से ही चलता है।

4. कान (EARS) – यह ध्वनिग्राही अंग है। कान  किसी भी तरह की sound  को सुनने का काम करता है।

5. जिह्वा (TONGUE) – यह स्वादग्राही अंग है। जिह्वा अर्थात् जीभ किसी चीज का taste का पता लगाने का काम करता है।

शरीर के कुछ मुख्य अंगों के नाम और उनके कार्य

1. आँखें (EYES)

आँखें तो सभी living beings की होती हैं, लेकिन इन्सान में इसका अलग ही importance है। शरीर का सबसे ज्यादा कोमल और delicate अंग आँखें होती हैं, इसलिए इनकी सुरक्षा बहुत ही जरूरी है। आँखों का काम सिर्फ देखना और देखे हुए message  को brain तक पहुँचाना होता है तथा शरीर की खूबसूरती में भी ये सहायक हैं।

2. भौंह (EYE BROWS)

आँखों के ऊपर की हड्डी में बाल या रोंये होते हैं जो धूल और पसीने से आंखों को बचाने का काम करती है जिसे eyebrows कहते हैं।

3. नाक (NOSE)

नाक सभी प्राणी के लिए अत्यंत महत्वपूर्ण अंग है। इसी के सहारे वह oxygen (प्राण-वायु) को खींचता और अशुद्ध वायु (carbon dioxide) को बाहर फैंकता है अर्थात breathing करता है। नाक से ही हम सुगंध से और दुर्गंध को experience करते है।

4.कान (EARS)

कान ऐसा अंग है जो ध्वनि का पता लगाता है, यह सिर्फ ध्वनि के लिए एक receiver के रूप में ही कार्य नहीं करता है, बल्कि शरीर के balance में भी एक प्रमुख भूमिका निभाता है।

5. मुँह (MOUTH)

बोलने और भोजन करने का काम मुँह द्वारा होता है। यह प्राणियों के दाँतों पर सुरक्षा कवच की तरह काम करती है। लार मुंह में भोजन के  pieces को तोड़ने में मदद करती है जिससे खाने को digest होने में आसानी होती है। लार की कमी से भोजन निगलना मुश्किल हो जाता है और पाचन क्रिया प्रभावित होतीहै।

6. जीभ (TONGUE)

भोजन और liquid eatables का स्वाद जीभ द्वारा ही पता चलता है। जीभ से हम आसानी से  भोजन को चबाने और निगलने के कार्य को कर सकते है और इस से स्वाद को experience किया जाता है। इसके अलावा जीभ का दूसरा कार्य है voice को control करना।

7. दाँत (TEETH)

दाँत, भोजन को तोड़ने, चबाने आदि के काम आते हैं। दाँतों की जड़ें मसूड़ों से ढ़की होतीं हैं।

दाँतों का कार्य भोजन को छोटे-छोटे टुकड़ो में करना है। जो जानवर मांस खाते हैं, वे शिकार करने एवं खुद की रक्षा करने के लिये दाँतों का उपयोग करते हैं।

8. गर्दन (NECK)

प्राणियों के धड़ और सिर के बीच का अंग गर्दन कहलाता है। यह सर और तन का मध्य हिस्सा है जो सिर को ईधर-उधर घुमाने का कार्य करता है।

9. हाथ (HAND)

हाथ मानव शरीर में कंधे से उँगलियों तक का वह अंग है, जिससे अधिकतर काम किये जाते हैं। खाने, किसी वस्तु को पकड़ने, किसी चीज का आदान प्रदान करने का कार्य हाथ करता है।

10. पैर (LEG)

पैर या पाँव प्राणी के शरीर की टाँग के अंत पर स्थित अंग होता है। पैर का तलुआ धरती के साथ लगकर प्राणी का वजन उठाने और उसके चलने में सहायक होता है।

11. हृदय (HEART)

यह छाती के मध्य में, थोड़ी सी बाईं ओर स्थित होता है। यह खून को साफ करना और शरीर के सभी अंगों तक खून की supply करने का कार्य करता है।

यह एक मिनट में 60-90 बार धड़कता है और हर धड़कन के साथ शरीर में रक्त को पम्प करता है। हृदय को पोषण एवं oxygen, रक्त के माध्यम से मिलता है।

12. फेफड़ा (LUNGS)

वायु में सांस लेने वाले living beings का मुख्य साँस लेने का अंग फेफड़ा होता है। यह प्राणियों में एक pair के रूप मे present होता है। फेफड़े वायु में से oxygen gas  को अंदर लेते हैं तथा carbon dioxide gas को शरीर से बाहर छोड़ते हैं।

13. धमनी (ARTERY)

यह heart हसे साफ हुए  blood  को  पूरे  शरीर के अंगों तक पहुँचाने का कार्य करती है।

14. शिराएं (VEINS)

शरीर के सब parts से carbon dioxide युक्त  blood को heart तक लाने का काम करती है। इनको नसे भी कहते हैं।

15. हड्डी (BONES)

हड्डी के बिना मनुष्य का शरीर इतना सुंदर नहीं होता सिर्फ माँस के ढाचे बन कर रह जाता।

हड्डियाँ शरीर को चलाने, support  देने तथा शरीर के विभिन्न अंगों की रक्षा करने मे सहायता करती हैं और  इसके आलावा  हड्डी  red और white blood cells का निर्माण करने और mineral salts के storage का काम भी करती हैं।

16. आमाशय (STOMACH)

भोजन के पाचन में सहायता के लिए protein- digestive enzyme और तेज़ acids को secrete करती है।

17. गुर्दा (KIDNEY)

इसका मुख्य कार्य शरीर से waste एवं liquid पदार्थो को urine के माध्यम से शरीर से बहार निकालना है। इसका काम किडनी से उन hormone को निकालना भी है जो हमारे शरीर के अन्य अंगों को कार्य करने में मदद करते हैं।

18. छोटी आँत (SMALL INTESTINE)

छोटी आँत वह अंग है जहां भोजन से पोषक तत्वों का maximum absorption होता है। यह पेट और बड़ी आंत के मध्य स्थित है। यह मानव पाचन तंत्र का एक महत्वपूर्ण भाग है। भोजन का सबसे अधिक पाचन और absorption यहीं पर होता है। इसकी लंबाई लगभग 18 फीट (6.5 मीटर) होती है और पेट में फिट होने के लिए कई बार मुड़ी हुई होती है। यह बड़ी आँत से लंबी होती है, परन्तु इसका diameter कम होने के कारण इसे छोटी आँत कहा जाता है।

19. बड़ी आँत (LARGE INTESTINE)

बड़ी आँत की कुल लंबाई 1.5 मीटर होती है। छोटी आँत से मोटाई में अधिक होने के कारण ही इसे बड़ी आँत कहते हैं। इसका मुख्य कार्य जल एवं कुछ salts का breakdown करना है।  इसका अंतिम भाग rectum कहलाता है जहाँ indigest particles मल के रूप में एकत्रित हो जाता है और anus  इसे excrete हो जाते है।

20. गुदा (ANUS)

इसका कार्य शरीर से मल निकालने का कंट्रोल  करना है।

FAQ :

Q. संवेदी अंग (Sence Organ) किसे कहते हैं?

Ans.मानव शरीर में 5  इंद्रिय अंग होते हैं जिनके नाम आंख (eyes),कान (ears), नाक (nose),जीभ (tongue) और त्वचा (skin) हैं। ये सभी संवेदी अंग हैं।

Q. Human body का सबसे बड़ा अंग कौन सा है?

Ans.Human body का सबसे बड़ा अंग त्वचा (skin) है।

Q. Human body में कुल कितनी हड्डियाँ हैं?

Ans.Human body में कुल 206 हड्डियाँ (bones) हैं।

Q. इंग्लिश में शरीर को क्या बोलते हैं?

Ans. Body

Q. कमर को इंग्लिश में क्या कहते हैं?

Ans.कमर को इंग्लिश में waist कहते हैं।

अन्य पढ़े:

Conclusion

इस आर्टिकल में Body Parts Name in Hindi And English (शरीर के अंगों के नाम हिंदी और इंग्लिश में) शेयर किया गया है। साथ ही External and Internal body parts name और ज्ञानेंद्रियों की जानकारी भी दी गयी है। हमें उम्मीद है कि इस आर्टिकल से आपको कुछ लाभ अवश्य ही होगा।

अनेक अन्य कार्य भी हैं, जिनके लिए हम अपने शरीर के हिस्सों का उपयोग करते हैं। हम अपने ही शरीर की रक्षा के लिए भी अपने शरीर का उपयोग करते हैं।

मनुष्य का शरीर कई छोटे एवं बड़े अंगो से मिलकर बना हुआ है। मानव शरीर में मौजूद सभी अंग अपने अपने स्थान पर विशेष प्रकार से कोई न कोई कार्य करते हैं। मनुष्य के जीवन में प्रत्येक अंग का होना बहुत आवश्यक है। सभी अंगो से ही मानव के शरीर की उत्पत्ति हुई है।

nv-author-image

Priyanka Sachan

यह उत्तर प्रदेश, कानपूर के रहने वाली है। इन्होने एम्.बी.ए किया हुआ है। पेशे से यह एक गृहणी है साथ ही साथ लिखने में भी इन्हें बहुत रूचि है।ये शिक्षा, पैसे कमाए,टेक्नोलॉजी पर आधारित आर्टिकल लिखती है। Follow Her On Facebook - Click Here

Leave a Reply

Your email address will not be published.