XML क्या हैं | XML का पूरा नाम क्या है?

पिछले पोस्ट में हमनें Html kya hai और इसके उपयोग के बारे में सीखा था। आज इस पोस्ट में xml kya hai और इसके उपयोग के बारे में जानेंगे।

आज इंटरनेट हर घर घर में उपलब्ध है जिसके कारण लोग टेक्निकल चीज़ों की ओर आकर्षित हो रहे है। आज बहुत ऐसे लोग है जो कंप्यूटर जगत में अपने करियर बनाने में दिलचस्पी रखते है। 

xml-kya-hai

बहुत लोग होते है जो Web designing सीखने के शॉकिंग होते है और अगर आप भी web designing में अपने कैरियर बनाना चाहते हो तो, आपको html, css और xml language सीखने के जरूरत होते है। Html, Css के बारे हमने पहले ही बताया हूँ। आज xml के बारे में जानेंगे।

Xml एक machine language है जिसे markup language भी कहा जाता है। इसे html के limitations को पूरा करने के लिए विकसित किया गया था। Xml से डेटा को स्टोर और transfer करने के लिए बनाया गया है।

ये तो रहे कुछ xml के बेसिक जानकारी नीचे xml kya hai, xml के full form ओर भी xml से रिलेटेड जानकारी दिया गया है। पोस्ट को अंत तक जरूर पड़े।

Xml Full Form(XML ka pura naam)

xml-full-form

Xml के बारे में जानना चाहते हो तो उससे पहले xml के full form जानना भी जरूरी होते है। 

  • ✅Xml full form है extensible markup language.
  • ✅एक्सएमएल के पूरा नाम हैं एक्सटेंसिबल मार्कअप भाषा।

Xml के full form जानना competative exam के लिए भी बहुत जरूरी होते है। क्योंकि आजकल हर एग्जाम में computer के रिलेटेड MCQ question को देखने के मिलते है। 

अगर आप ssc जैसे कोई competative exam के तैयारी में है तो xml full form को जरूर याद रखें। तो चलिए अब जानते है xml kya hai।

एक्सएमएल क्या हैं(What is XML in hindi)

Xml यानी extensible markup language। नाम से ही आप अनुमान लगा सकते हो कि यह मार्कअप भाषा के extensive रूप है। यानि कि xml एक कोडिंग भाषा है जिसे वेब पेजेज बनाने में use किया जाता हे ।

जैसे कि आप जानते है html के use web pages के structure या layout बनाने में किया जाता है। Html के जड़िये हम किसी भी तरह के डेटा को स्टोर नही कर पाते है। Html के ऐसे ही limitations को दूर करने के लिए ही 1996 में डब्लू 3 सी(World Wide Web Consortium) द्वारा xml भाषा को विकसित किया गया।

Xml एक ऐसे मार्कअप भाषा है जो डेटा को स्टोर और डेटा transfer के सुविधा देते है। 

Xml के जड़िये हम किसी भी तरह के डेटा को स्टोर और एक वेब पेजेज से दूसरे वेबपजेस पर डेटा को बहुत आसानी से tranfer भी कर पाते है। यानी कि xml को डेटाबेस के रूप में भी use किया जाता है।

Xml को html के साथ combine करके भी use किया जा सकता है जिसे X-HTML कहते है।

Xml को क्यों विकसित किया गया था?

Xml के आने से पहले html को मार्कअप भाषा के रूप में use होते थे। लेकिन html के feature सीमित होते है। जैसे कि html predifine tag को ही support करते है। html किसी भी तरह के डेटा स्टोर के सुविधा नही देते है। 

Html के इन्ही limitation को दूर करने हेतु W3C द्वारा xml को विकसित किया गया है। Xml खुद से टैग बनाने के सुविधा देते है, जिससे टैग याद रखने के झंझट नही होते। 

साथ ही साथ ये डेटा को स्टोर और transfer के सुविधा देते है। आज बहुत बड़े बड़े वेबसाइट, apllication xml के use डेटा स्टोर करने के लिए भी कर रहे है।

XML Basic Code

<?xml version="1.0" encoding="UTF-8"?>
<PersonData>
<Student>
  <Name>Suraj</Name>
  <Age>21</Age>
  <Class>10th</Class>
<Caste> OBC </Caste>
</Student>

<Student>
  <Name>Mohit</Name>
  <Age>20</Age>
  <Class>9th</Class>
<Caste> Gen</Caste>
</Student> 
</PersonData>

Xml के उपयोग(Uses of xml)

Xml kya hai ये तो जान लिया है अब इसके कुछ uses के बारे में जानते है-

  • डेटा स्टोर के लिए xml के उपयोग करते है। 
  • Xml डेटा को structurally organize करते है जिससे html के जड़िये जरूरत के हिचाप से उन डेटा को डिस्प्ले कर पाते है।
  • Xml को एक वेब पेज से दूसरे वेब पेज में डेटा को transfer करने के लिए भी उपयोग करते है। 
  • Xml खुद से tag बनाने की सुविधा देते है, जो own difine होते है। 
  • बहुत organization html को डेटाबेस के रूप में भी उपयोग करते है। 
  • Xml के उपयोग से dyanamic content create कर सकते है। जिससे बिना डेटाबेस के भी उन डेटा को access कर पाते है। 
  • Xml में store करे डेटा को अलग अलग format में, अलग अलग stylsheet के साथ दर्शाया जा सकता है। 

XML के फायदे(Advantage of XML)

  1. Xml code सीखना बहुत आसान होते है। क्योंकि इसमें बहुत कम ही tag, syntex और rule को याद रखना होता है। 
  2. Xml code लिखने के लिए किसी भी तरह के extra software या tools की जरूरत नही होते। इसे किसी भी तरह के text editor जैसे notepad के जड़िये भी कोड कर पाते है। 
  3. Xml के टैग own difine होते है जिसके कारण extra tag को याद रखने की जरूरत नही होते। 
  4. XML में डेटा को structure के रूप स्टोर किया जा सकता है जिससे अपने जरूरत के अनुसार डेटा को डिसप्ले करा जा सकता है। 
  5. Xml code human और machine दोनो के द्वारा ही पठनीय होते है।
  6. यह डेटा sharing को ओर भी आसान बना देता है।
  7. Xml कोई भी language जैसे php, java, Asp लगभग हर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को सपोर्ट करता है।

Xml के नुकसान(Disadvantage of xml)

  • Xml tag को open करने के बाद end करना जरूरी होते है। नही तो programe में error आ जाता है। 
  • Xml tag user difine होते है जिससे दूसरे user को उस code को समझना और उसे modify करने में परेशानियां आ सकते है। 
  • ये data type को support नही करते।
  • कोई भी browser xml language को नही समझते है। Xml file डेटा डिस्प्ले करने के लिए html के ऊपर निर्भर करते है। 

एक्सएमएल के इतिहास(History of xml)

Xml के निर्माण में जॉन बासक प्रमुख प्रेरक थे। इसे World wide web Consortium यानी कि W3C ने साल 1996 के आसपास विकसित शुरू किया था। इसके पहले version यानी XML1.0 साल 1998 में लांच किया गया और दूसरे वर्शन XML1.0 को 4 फरवरी 2004 को devlop किया गया। Xml को W3C के एक प्रमुख टीम द्वारा नियंत्रित किया जाता है।

Xml और Html में अंतर(Difference Betwen XML and HTML)

वैसे तो दोनों ही markup language है लेकिन दोनों कुछ ऐसे अंतर है जो आपको समझना जरूरी होते है। जिसके बारे में नीचे टेबल दिया गया है। 

XMLHTML
XML को डेटा प्रेरण और डेटा स्टोर के लिए use किया जाता हे । HTML के use वेबपेजेज के layout बनाने के लिए use किया जाता हे । 
XML में user टैग को difine करते है । HTML में predifined टैग होते है, जिसे सिर्फ user use करते है। 
XML Tags Case Sensitive होते है। HTML tags Case Sensitive नहीं होते है। 
XML Tags को close करना जरुरी होते है, Otherwise you get an error । HTML tag अगर unclose हो तब भी ब्राउज़र उसे ठीक करके run करता है । 
XML एक strick language है , जहा पर थोड़ी mistake में भी error show होता है । HTML is not a strick language । 
XML file .xml extension के use करते है । HTML file .html extension के use करते है । 

Conclusion : XML kya hai

Xml kya hai, xml full form(xml ka pura naam) और भी कोई सारे xml के information ऊपर बताया हूँ। जिसे पढ़कर मुझे उम्मीद है xml क्या है और इसके उपयोग को आप समझ गए होंगे। 

अगर guys आप भी xml languge सीखना चाहते हो तो आप यूट्यूब के मदत से या किसी caurse से सिख सकते हों। लेकिन xml से पहले html और css को सीखना जरूरी होते है। अगर आपको ये दो language आते है तब तो xml आपके लिए बहुत आसान होता है।

उम्मीद है guys html basic jankari पोस्ट आपको पसंद आये होंगे। अगर पोस्ट ने आपके क्वेरी को क्लियर किया है तो जरूर आपने सोशल मीडिया पर शेयर करे और पोस्ट के रिलेटेड जो भी बात आपके मन मे है कमेंट करें। पोस्ट को यहाँ तक पड़ने के लिए बहुत बहुत धन्यवाद।।

3 thoughts on “XML क्या हैं | XML का पूरा नाम क्या है?”

  1. Pingback: Html in hindi(Html क्या है कैसे सीखें) » Hindi Me Seekhe

  2. Pingback: [Full Form] DBMS क्या है? DBMS के बारे में सारी जानकारी|| » Hindi Me Seekhe

  3. Pingback: Whatsapp किस देश का एप्प है ||Whatsapp kis desh ka hai? » Hindi Me Seekhe

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *